किसी का उपकार भूलना नहीं चाहिए - Upkar Ka Badala Hindi Story

 नमस्कार दोस्तों आपका दिल से स्वागत हे तो आज हम बात करने वाले हे एक प्रेरणादायक हिंदी कहानी के बारे में ये कहानी हमें ये सिख देती हे की हमें किसी का उपकार कभी भूलना नहीं चाहिए लेकिन आज के समय में ऐसा नहीं हे यानिकि ज्यादातर लोग आपके उपकार को भूल ही जाते हे लेकिन फिर भी हमें दूसरे लोगो पर उपकार , उनकी सेवा करते रहना चाहिए बिना किसी उम्मीद के क्योकि सेवा का सही फल हमें सिर्फ भगवान ही दे सकते हे इंसान नहीं इसलिए सेवा सबकी कीजिये लेकिन उम्मीद किसी से न रखिये तो दोस्तों मुझे उम्मीद हे की आपको ये कहानी जरूर पसंद होगी। Upkar Ka Badala kahani

उपकार का बदला

उपकार का बदला / सच्चा प्रेम कहानी

  एक बड़ा ही सुहावना वन था उस वन में कई प्रकार के तरह - तरह के हरे भरे वृक्ष , कोमल लताये , सुन्दर पौधे और कई महकते फूल थे इस वन में कई प्रकार के छोटे - बड़े पक्षी रहते थे कई प्राणी रहते थे इतना ही नहीं इस वन में रहते वाले पक्षी और प्राणियों को पानी पिने के लिए उस वन में से एक नदी भी बहती थी यानिकि पक्षियों और प्राणियों के लिए ये वन ही सबसे अच्छी जग़ह थी। 

  एक दिन की बात हे उस सुन्दर वन की सैर करने के लिए देवराज से राजा इंद्र उस वन में पधारे। वो उस वन के सुन्दर और बड़े वृक्ष को ,कोमल लताये को , पक्षी के कलरव को , प्राणियों की मस्ती को देख रहे होते हे तब अचानक राजा इंद्र की नजर एक उदास तोते पर पड़ी जो एक सूखे पेड़ पर बैठा था ये देखकर राजा इंद्र उस उदास बैठे तोते के पास जाकर कहा की इस वन में असंख्य पेड़ पौधे हरे भरे और फल फूलवाले हे इस वन में रहने वाले सभी पक्षी और प्राणी खुश हे अपनी मस्ती में जी रहे हे जबकि एक तुम हो जो इस सूखे पेड़ पर उदास बैठे हो ऐसी तो क्या बात हे वो तुम उदास बैठे हो?

   तब वो उदास तोता राजा इंद्र को उत्तर देता हे की हे मेरे देवता ये पेड़ भी पहले हरा भरा था यानिकि कभी इस पेड़ पर भी सुघंधित फूल और मीठे - मीठे फल थे यानिकि जब में छोटा था तब से लेकर में बड़ा हुआ तब तक का सफर मैने इस पेड़ के आश्रय के साथ ही तय किया हे इस पेड़ में मुझे आंधी में तूफान में, बारिश में मेरी रक्षा की हे इसने बड़े प्यार से मुझे सब कुछ दिया हे इतना ही नहीं मेरे बच्चे भी इसी पेड़ की वजह से बड़े हुए हे अब इस पेड़ की ऐसी दुर्दशा में में इसका साथ कैसे छोड़ सकता हु अब आप ही मुझे बताओ की मुझे इस पेड़ के उपकार को भूल जाना चाहिए क्या? 

उस उदास तोते की बात सुनकर राजा इंद्र बहुत ही खुश हुए और उन्होंने उस उदास तोते से कहा की में तुम्हारे इस सच्चे प्रेम से बहुत ही प्रसन्न हुआ बोलो तुम्हे क्या चाहिए में तुम्हे ऐसा ही दूसरा पेड़ दू या फिर ऐसा ही दूसरा वन दू तुम जो मांगोगे वो तुम्हे मिलेगा। तब वो उदास तोता राजा इंद्र से कहता हे की ना मुझे कोई दूसरा पेड़ चाहिए और ना ही कोई वन चाहिए बस आप इस सूखे पेड़ को ही फिर से हरा - भरा कर दे तब राजा इंद्र ने उस सूखे पेड़ को फिर से हरा भरा कर दिया देखते ही देखते उस सूखे पेड़ पर हरी पत्तियां और फल फूल दिखने लगे ये सब देखकर उस तोते की ख़ुशी का कोई ठिकाना न रहा।

कहानी की सिख : अगर आप भी अपनी ज़िन्दगी में किसी की सेवा करते हे या फिर किसी पर उपकार करते हे तो आपको भी उपकार का बदला पेड़ की तरह जरूर मिलेगा। जब भी कोई इंसान हमारी मुश्किल परिस्थिति में हमारी मदद करे , हमारा साथ दे तो हमें उसके उपकार को कभी भूलना नहीं चाहिए।

" पढ़ने के लिए आपका दिल से धन्यवाद " 

यदि मेरे पंख होते तो पर निबंध - Yadi Mere Pankh Hote To

 नमस्कार दोस्तों आपका दिल से स्वागत हे तो आज हम बात करने वाले हे की यदि मेरे पंख होते तो? आज हर एक इंसान काल्पनिक सोच से कुछ ना कुछ सोचता ही रहता हे तो हर एक इंसान के मन में ऐसा विचार एक बार जरूर आया होगा की काश मेरे पास भी पंख होते? और ऐसा विचार ज्यादातर हमें बचपन के दौरान ही आता हे तो दोस्तों आज हम इसी विषय पर बात करने वाले हे की काश मेरे पास भी पंख होते तो? तो दोस्तों मुझे उम्मीद हे की आपको ये निबंध जरूर पसंद होगा। पक्षी नहीं होंगे तो क्या होगा?

यदि मेरे पंख होते तो पर निबंध


यदि मेरे पंख होते तो?

[ प्रस्तावना - लोग मेरे बारे में क्या कहते - पंख होने के कई लाभ -  मुझे सेवा का अवसर भी मिलता - दो पैर ही अच्छे ]

प्रस्तावना 

हर एक इंसान ने आकाश में पक्षियों को उड़ते हुए देखा ही होगा उन्हें देखकर हमारे मन भी ऐसा ख्याल जरूर आता होता की काश मेरे पास भी पंख होते तो में भी आकाश में उड़ सकता। जहा जाना चाहता वहाँ तेज़ गति से उड़कर चला जाता यानिकि में धरती के बंधन से मुक्त होकर खुल्ले आकाश में अपनी इच्छा अनुसार सैर करता। मुझे उड़ने में बहुत आनंद मिलता। 

लोग मेरे बारे में क्या कहते

यदि मेरे पंख होते तो सबसे पहले मुझे लोग एक अनोखा लड़का कहते क्योकि मेरे पास ही पक्षी की तरह पंख होते जबकि कई लोग तो मुझे पंखवाला लड़का , जादुई लड़का आदि नामो से पहचानते। में जहा भी जाता वहां सब मुझे अचरज से देखते और मुझे देखकर वो भी सोचते की काश इस लडके की तरह मेरे पास भी पंख होते? अखबारों में टीवी चैनलों में मेरी फोटो छपती इतना ही नहीं कई लोग मेरे पास आकर सेल्फी भी खींचते। में जहाँ भी जाता मेरे आसपास भीड़ हो जाती मुझे सवाल करती की तुम्हारे पास ये दो पंख कैसे आये? क्या तुम हमें अपने साथ लेकर भी उड़ सकते हो क्या ? तरह - तरह के सवाल लोग मुझे करते। 

पंख होने के कई लाभ

अगर मेरे पास पंख होते तो में आराम से इधर उधर घूम फिर सकता यानिकि जहाँ मुझे जाने की इच्छा होती में वहाँ पहुंच जाता ना मुझे किसी स्कूटर की ना किसी गाड़ी की ना किसी बस की कोई जरुरत पड़ती ना किसी को पैसा देना पड़ता बस में उड़कर वहां चला जाता। ना मुझे प्रट्रोल की जरुरत होती ना ही डीजल की। मुझे किसी भी जगह पर जाने के लिए मुझे कोई भी ट्रैफिक रोक नहीं सकता चाहे कितनी ही भीड़ क्यों न हो लेकिन कोई मुझे रोक नहीं सकता। यानिकि पंख होने की वजह में कही भी जा सकता हु। मकरसंक्रांति के त्यौहार पर पतंगों की ढेर लग जाती। जब भी मेरी माँ बाजार से कुछ मंगाती में उसे जल्दी से ले आता। 

    में आकाश में तेज रफ़्तार से उड़ने की कोशिश करता पक्षियों के साथ उड़ने की हरिफाई करता जहा भी मुझे मीठे फल के पेड़ देखने को मिलते में वहाँ जाकर मीठे फल खाता। पेड़ो पर आराम करता और रात के दौरान अपने घर पहुँच जाता और कभी - कभी रात को उड़ने की इच्छा होती तो रात के दौरान भी आकाश में उड़ता। महासागरों के ऊपर उड़ने का मज़ा ही कुछ और होता। बड़े बड़े जंगलो की सैर करता सेर बाघ जैसे खूंखार प्राणियों को देखता वो कैसे शिकार करते हे ये उड़ते हुए देखता ना किसी का डर बस मुझे आकाश में उड़ने वाले विमानों से जरूर ख़तरा रहता और किसी से नहीं। 

मुझे सेवा का अवसर भी मिलता 

अगर मेरे पास पंख होते तो मुझे सेवा करने के बहुत अवसर मिलते जैसे की में आग में फसे लोगो को बहार निकालने में मदद करता। दुर्घटना में घायलों की मदद करने के लिए फ़ौरन पहुंच जाता। अगर किसी का अकस्मात हो जाता हे तो में तुरंत ही उसे अस्पताल में भरती करावाता। अगर कोई भी नदी या तालाब में डूब रहा हे तो उसकी मदद करता। बच्चों और बूढ़ो की मदद करने में देर ना करता। 

दो पैर ही अच्छे 

भगवान जो करता हे वो हमारे और सबके लिए अच्छा ही करता हे इसलिए पंखो से हमारे पास जो दो पैर हे वो ही हमारे लिए हमारे पंख हे ये तो हमने अच्छी बाते आपको बताई की अगर आप सोचिये की पंख होने से जितना लाभ हो उतना नुकशान भी हो सकता हे क्योकि हर एक इंसान अच्छा नहीं होता इसलिए हमारे पैर ही हमारे लिए पंख हे।

ये भी पढ़े। 

एक घायल पक्षी की आत्मकथा 

पक्षियों के लिए हम क्या - क्या कर सकते हे 

" पढ़ने के लिए आपका दिल से धन्यवाद "

एक घायल पक्षी की आत्मकथा - Ak Ghayal Pakshi Ki Atmakatha

 नमस्कार दोस्तों आपका दिल से स्वागत हे तो आज हम एक घायल पक्षी की आत्मकथा के बारे में बात करने वाले हे कैसे वो पक्षी घायल होता हे कैसे वो पहले और अब ज़िन्दगी को बिताता हे उसने क्या - क्या सपने देखे थे और क्या हो गया ये सब हम इस पोस्ट के माध्यम से आपको बताने वाले हे हमें उम्मीद हे की आपको ये पोस्ट जरूर पसंद होगी। 

ak ghayal pakshi ki atmakatha

एक घायल पक्षी की आत्मकथा

 प्रस्तावना : 

           जी हां दोस्तों में एक घायल पक्षी हु आज जो मेरा ये हाल हे उसके पीछे एक शरारती लडके का हाथ हे उसकी एक छोटी सी भूल की वजह से मेरा ये हाल हे मेरे पंख जो मुझे बहुत ही प्यारे थे वो ही आज मेरे पास नहीं हे मेरे शरीर से खून बह रहा हे पता नहीं कब मेरी मौत हो जाये और में इस पीड़ा से आज़ाद हो जाऊ इसलिए में मरने से पहले में आपको अपने बारे में आपको बताना चाहता हु।

मेरा बचपन : 

  मेरे बचपन के दिन बहुत ही सुहाने थे एक बड़ा सा बरगद के पेड़ पर हमारा घोंसला था जिसमे मेरे छोटे भाई - बहन और में रहते थे यानिकि मेरा परिवार बहुत छोटा था मेरे माँ हमें छोड़कर दाने लेने जाती हम तीनो भाई - बहन अपनी माँ की राह देखते और उसके वापस आते देखकर हमारी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं रहता। हम अपनी - अपनी चोंच खोल देते और माँ उसमे दाने डालती उसी प्रकार हर दिन माँ हमारे लिए दाने लेने जाती और हमारा भरण पोषण करती इसी प्रकार दिन बीतते गए और हम बड़े होते गए। 

मेरे सुनहरे पल 

  जब हम बड़े हुए तो हमारी भी इच्छा हुई उड़ने की तो माँ ने हमको उड़ना सिखाया तब में और मेरे भाई बहन शरुआत में एक डाल से दूसरी डाली पर जाते कभी कभी गिर भी जाते थे ऐसे कर कर के हमने उड़ना सिख लिए अब हम ऊँची आकाश में उड़ सकते हे किसी भी पेड़ पर आसानी से बैठ सकते हे यानिकि उड़ने हम माहिर हो गए थे।

अब हम तीनो भाई - बहन दूर - दूर की सैर करने लगे। मनचाहे पेड़ो पर बैठकर मनचाहे फल खाते बड़े और ऊँचे झरनों का मीठा पानी पीते मौज मस्ती करते ये मेरे जीवन के सुनहरे दिन थे। 

मेरा घायल होना 

  एक दिन की बात हे हम दिनों भाई - बहन हर दिन की तरह सैर करने गए थे अपने मनचाहे फल खाकर आराम के लिए हम एक आम के पेड़ पर बैठे थे तभी तीन लड़के आम खाने के लिए उस आम के पेड़ के निचे आये उसमे से एक शरारती लडके ने एक वज़नदार पथ्थर उठाकर आम की तरफ फेंका लेकिन बदनसीब उस आम की पीछे ही हम दिन भाई - बहन बैठे थे वो पथ्थर मुझे लगा और मेरे पंख से खून बहने लगा में घायल होकर निचे गिर गया मेरे भाई बहन मुझे छोड़कर चले गए तब से में यही पे रहता हु और अपनी मौत का इंतजार करता हु क्योकि अब में पहले की तरह उड़ नहीं सकता जिसकी वजह से आज में अन्य पक्षी को उड़ते हुए देखकर मुझे बहुत कष्ट होता हे मेरा दर्द केवल में समझ सकता हु। 

मौत का इंतजार करना 

अब मुझे अपना अंत बहुत ही नज़दीक लग रहा हे क्योकि मेरे पंख की वजह से में उड़ नहीं सकता जिसे मुझे खाना भी नसीब नहीं होता। अब मुझे सिर्फ मौत का इंतजार हे मरने के बाद में फिर से में पक्षी ही बनना चाहता हु क्योकि स्वतंत्रता का सच्चा सुख पक्षी ही भोगते हे। 

ये भी जरूर पढ़े। 

पक्षियों के लिए हम क्या कर सकते हे 

पक्षी नहीं होंगे तो क्या होगा 

" मेरे प्रति हमदर्दी के लिए आपका दिल से धन्यवाद " 

ज़िन्दगी में इन बातों को हमेंशा याद रखे - In Bato Ko Jarur Yaad Rakhe

 नमस्कार दोस्तों आप सभी का दिल से स्वागत हे तो आज हम आपके लिए कुछ अनमोल विचार लेकर आये हे जो आपको बहुत पसंद आएंगे। Life Changing Thought In Hindi

ज़िन्दगी के बारे में सच्ची बातें 

जिंदगी के बारे में सच्ची बातें

 ऐसे लोग एक दिन खुद ही खिलौना बनकर रह जाते हे 

✅ हमारे रिश्तों में कुछ लोग ऐसे भी होते हे जो खुद को चालक और होशियार समझकर हमारे दिल और जज्बातों से खेलते हे लेकिन शायद वो ये बात भूल जाते हे की जो इंसान खुद को चालक और होशियार समझकर दूसरे के दिल और जज्बातो से खेलता हे वो एक दिन खुद ही एक खिलौना बनकर रह जाता हे। Good Thought In Hindi

अपने लक्ष्य पर अपना ध्यान केंद्रित करे 

✅ एक महिला हर रोज रामजी के मंदिर जाती थी लेकिन एक दिन उस महिला ने पुजारी से कहा अब में मंदिर नहीं आया करुँगी क्योकि कई लोग मंदिर के परिषद् में फोन से व्यापर की बातें करते हे और कुछ लोग केवल गपशप करने के लिए ही आते हे जबकि कई लोग पूजा कम और दिखावा ज्यादा करते हे ये बात सुनकर पुजारी ने उस महिला को कहा ठीक हे लेकिन आपको अंतिम निर्यण लेने से पहले मेरा एक काम करना होगा तुम्हे एक ग्लास में पानी भरकर इस मंदिर की 2 बार प्ररिक्रमा लगानी होगी लेकिन शर्त ये हे की ग्लास का पानी गिरना नहीं चाहिए कुछ देर बाद महिला में उस काम को पूरा कर दिया उसके बाद पुजारी ने उस महिला को तीन सवाल पूछे। हमारे जीवन में एकता का महत्व

1 . क्या तुमने किसी को फ़ोन पर बात करते हुए देखा ?

2 . क्या तुमने मंदिर में किसी को गपशप करते हुए देखा ?

3 . क्या तुमने किसी पाखंड को देखा ? 

तब वो महिला बोली मेने किसी को भी नहीं देखा तब पुजारी ने उस महिला को समझते हुए कहा की तुम्हारा पूरा ध्यान ग्लास पर था की इसमें से पानी गिर न जाये इसलिए तुमने कुछ नहीं देखा इसलिए तुम जब भी मंदिर में आओ तो अपना पूरा ध्यान परमात्मा पर ही लगाना चाहिए फिर तुम्हे परमात्मा के आलावा और कुछ दिखाई नहीं देगा। 

वैसे ही हमें भी ज़िन्दगी में अपने लक्ष्य पर भी अपना ध्यान केंद्रित करना चाहिए दूसरे लोग हमारे बारे में क्या सोच रहे हे क्या बोल रहे हे और क्या कर रहे हे इन बातो को नजरअंदाज करके अपने लक्ष्य पर अपना ध्यान केंद्रित करना चाहिए।।

पहला रिश्ता इंसान का इंसान से होता हे 

✅ शायद आज इंसान ये बात भूल चुका हे की रिश्ते से पहले भी हमारा रिश्ता इंसान का इंसान से होता हे इसलिए आज इंसान किसी की मदद करने से पहले भी अपना और पराया देखता हे।

रिश्तों में सच की अहेमियत 

✅ एक पौधे को बड़ा होने में पानी की जीतनी अहमित होती हे उतनी ही अहमित एक रिश्तो में सच की होती हे लेकिन आज के रिश्तो में सच से ज्यादा झूठ नजर आता हे यानिकि झूठ की वजह से ही रिश्ते बनते हे और झूठ की वजह से ही रिश्तें चलते हे क्योकि आज कल के रिश्ते झूठ बोलने से नहीं लेकिन सच बोलने पर टूट जाते हे लेकिन जो इंसान रिश्तो में सच की अहमित जनता हो भले ही रिश्ता टूट जाये लेकिन सब बोलना ही पसंद करता हे।

हार मानना भी हमारी सबसे बड़ी जित होती हे 

✅ उस वक्त इंसान की सबसे बड़ी हार होती हे जब इंसान सही होकर भी उसे गलत लोगो के आगे अपना सिर झुकना पड़ता हे लेकिन यही हार एक दिन हमारी जित बनती हे यानिकि कभी - कभी हार मानना भी हमारी सबसे बड़ी जित होती हे। और एक हार ही होती हे जो मिलने पर पर हम बहुत कुछ सिख सकते हे। Life Thought In Hindi

चालाकी और ईमानदारी 

✅ अगर आप खुद को चालक और होशियार समझते हे तो कोई बात नहीं लेकिन दुसरो को कभी नासमझ मत समजिये क्योकि यहाँ हर एक इंसान चालक होता हे लेकिन कई लोग अपनी चालाकी दिखाते हे तो तो कुछ लोग ईमानदारी। ज़िन्दगी पर प्रेरणादायक विचार

प्रेम और अच्छा व्यवहार 

✅ किसी भी इंसान को फिर वो आपके दोस्त हो , आपकी पत्नी हो या फिर आपके रिश्ते ही क्यों न हो सबको अपनी तरफ आकर्षित करने वाला कोई असली चुंबक हे तो वो अपका उसके प्रति प्रेम और व्यवहार हे जिसे सामने वाला आपकी तरह आकर्षित होता हे वैसे ही दूसरो के प्रति आपका बुरा व्ववहा ही उनको आपसे दूर करता हे। ये बात हमेंशा ध्यान रखे।

परखने के बजाय समझने की कोशिश करे 

✅ जो आपके दिल के सबसे करीब और आपके लिए अच्छा हो उसे परखने के बजाय समझने की कोशिश करे क्योकि कई बार परखने के चक्कर में ऐसा न हो की सामने वाले इंसान की कोई बुराई निकल आये इसलिए अच्छे को अच्छे ही रहने दो लेकिन जो हमारे लिए बुरा हे उसे बार बार परखने की कोशिश करे मुन्किन हे की बुरे इंसान में भी हमें उसकी कोई अच्छाई नजर आ जाये।

इंसान का असली चहेरा 

✅ किसी सी भी इंसान का असली रूप हमें तब दिखाई देता हे जब वो इंसान नशे में होता हे फिर वो नशा चाहे शराब का हो , अपने पैसो का हो , अपनी सुंदरता का हो या फिर अपने ज्ञान का ही क्यों न हो।

मतलबी इंसान से दूर ही रहे 

✅ जब लोगो को हमारी जरुरत होती हे तब लोग बिना कोई रिश्तें के भी हमसे रिश्ता बना लेते हे जबकि वही लोगो की जरुरत ख़त्म हो जाती हे तब बिना किसी वजह के भी रिश्ता तोड़ देते हे यानिकि इस दुनिया में ज्यादातर लोग आपसे नहीं बल्कि , आपके समय को देखकर ,  आपकी परिस्थिति को देखकर और अपने मतलब से आपके साथ रिश्ता बनाते हे इसलिए ऐसे मतलबी इंसान से आप हमेंशा दूर ही रहे।

जैसी करनी वैसे भरनी 

✅ जो हम दुसरो को देते हे वही हमें वापस मिलता हे इसलिए हर किसी से आप जब भी बात करे तो अपने व्यव्हार में अपने बातो को इतना मधुर रखिये की कल जब उसे वापस लेना तो हमारी ही बातें हमें कड़वी न लगे यानिकि सबके साथ ऐसा व्यव्हार कीजिये जो आप चाहते हे की सामने वाला हमारे साथ भी अच्छा व्यव्हार करे। अगर कोई भी इंसान आपके साथ  बुरा व्यव्हार करे या फिर बुरे शब्दों में आपसे बात करे तो क्या आपको पसंद होगा नहीं ना तो फिर दूसरे लोगो को आपका बुरा व्यव्हार, आपके बुरे शब्द कैसे पसंद आएंगे जो आपको खुद पसंद नहीं हे इसलिए हर किसी के साथ अच्छा व्यव्हार रखिये। 

हर दिन अच्छा होता हे 

✅ आप ज़िन्दगी में चाहे कितने भी बुरे दिन से ही क्यों न गुजरे लेकिन कभी भी उस दिन को ख़राब मत कहना क्योकि अच्छा दिन खुशिया लाता हे जबकि बुरा दिन हमें अनुभव सिखाता हे। 

ज़िन्दगी की परीक्षा 

✅ ज़िन्दगी में जब हमारे ऊपर काले बादल साये हो , जब हम ख़राब दौड़ से गुजर रहे हो , कठिन परिस्थितियों का सामना कर रहे हो तब सबके मन में ऐसा ख्याल जरूर आता हे की मेरा भगवान् मेरा खुदा मेरी परेशानियों को , मेरी मुश्केलियो को दूर क्यों नहीं करता , मेरे दुखो को कम क्यों नहीं करता लेकिन एक बात हमेंशा याद रखना की जब भी आप मुश्किल परिस्थिति से गुजर रहे होते हे तब आपकी परीक्षा चल रही होती हे और आपका शिक्षक यानिकि आपका भगवान् आपका खुदा मौन ही रहा करता हे उसे आप पर विश्वास होता हे की आप उन सभी परेशानियों से खुद को बहार निकाल ही लेंगे। इसलिए चाहे अच्छा समय हो या फिर ख़राब बस भगवान पर भरोसा रखिये और अपने कर्म करते रहिये।

हमेंशा ख़ुशी से ज़िन्दगी को जिनि चाहिए 

✅ किसी भी इंसान को ये पता नहीं होता की वो पिछले जन्म में किस के साथ था और ये भी पता नहीं होता की अलगे जन्म में वो किसके साथ होगा तो फिर आज जो भी इंसान हमारे साथ हे और हम हम जिसके साथ हे उनसे नफ़रत करने से या उनसे बदला लेने का क्या फायदा इसलिए हर एक इंसान को अपनी ज़िन्दगी हमेंशा ख़ुशी के साथ जिनि चाहिए क्योकि किसी को ये पता नहीं हे की खुद की ज़िन्दगी जीतनी बाकि हे। ज़िन्दगी को सरल कैसे बनाये?

बुरे लोगो के साथ रहने से अच्छा हे हम अकेले ही रहे 

✅ हर एक इंसान की ज़िन्दगी कुछ लोग में ऐसे भी  होते हे जो रहते तो हमारे साथ हे लेकिन हमारे साथ रहने के बाद भी वो हमारे साथ छल करते हे हमें धोखा देते हे जब हम साथ होते तब हमारी प्रसंसा करते हे जबकि अन्य लोगो के साथ हमारी निंदा करते हे यानिकि हमारी बातो को गलत तरीके दूसरे लोगो के साथ रखते हे ऐसे इंसानो के साथ न रहना ही हमारे लिए बहेतर होता हे क्योकि गलत लोगो के साथ या फिर , बुरे लोगो के साथ रहने से कई ज्यादा बहेतर हे की हम अकेले रहे।  

आज की सच्चाई क्या हे ?

" पढ़ने के लिए आपका दिल से धन्यवाद "

चतुर चित्रकार - Best Life Inspire Stories In Hindi

 नमस्कार दोस्तों आपका दिल से स्वागत हे तो आज हम एक चतुर चित्रकार की कहानी के बारे में बात करने वाले हे इस कहानी से आप ये सिख सकते हे की यदि हम संकट के वक्त चतुराई से काम करे तो हम संकट से बच सकते हे तो दोस्तों मुझे उम्मीद हे की आपको ये कहानी जरूर पसंद होगी।

life inspirational hindi story

चतुर चित्रकार की हिंदी कहानी 

रामपुर नामक एक छोटा सा गांव था उस गांव में मगन नामक एक चित्रकार रहता था जो तरह - तरह के प्राकृतिक दृश्यों का चित्र बनाता था उसे चित्र बनाने का बड़ा ही शौख था वो कई बार नदी , पहाड़ , बाग़ - बगीचे के भी चित्र बनाता था। Life Inspirational Hindi Story 

एक दिन की बात हे वो चित्रकार चित्र बनाने के लिए प्राकृतिक दृश्य की ख़ोज में एक घने जंगल में पहुँच जाता हे वहाँ उसे तरह - तरह के प्राकृतिक दृश्य देखने को मिलते हे जिसे देखने के बाद वो बहुत ही खुश हो जाता हे क्योकि कभी भी उसने ऐसे प्राकृतिक दृश्य नहीं देखे थे रंगबेरंगी फूल , झरने , रंगबेरंगी पक्षी , बड़े - बड़े पेड़ ये सब देखकर वो चित्रकार चित्र बनाने लगा। कुछ देर बाद वहां एक सेर आ गया सेर को देखकर चित्रकार के होश उड़ गए उसके पैर कापने लगे फिर भी उस चित्रकार ने हिम्मत की और उस सेर से कहने लगा की जंगल के राजा की जय हो में एक चित्रकार हु और में आपका चित्र बनाना चाहता हु कृपा करके आप सामने वाले पथ्थर पर बैठ जाइये में आपका बहुत ही सुन्दर चित्र बना दू। चित्र बनाने की बात सुनकर जंगल का राजा बहुत ही खुश हो गया और चित्रकार से बोला अगर चित्र अच्छा नहीं हुआ तो तुम्हारी खेर नहीं और वो चित्रकार के सामने बैठ गया चित्रकार ने चित्र बनाना शरू किया कुछ देर बाद चित्रकार सेर से बोला महाराज आपके अगले भाग का चित्र तो बन चूका हे लेकिन पिछले भाग का नहीं इसलिए आप मुँह उल्टा कर बैठ जाइये ताकि में आपको पिछले हिस्से का भी चित्र बना लू। 

अपने पुरे शरीर का चित्र बनवाने के लालच में शेर पीछे की और अपना मुँह करके बैठ गया तब चित्रकार अपना सारा सामान लेकर चुपके से वहाँ से रवाना हो गया। इस प्रकार उस चित्रकार में अपनी चतुराई की वजह से अपनी जान बचा ली। 

कहानी की सिख : जब हम किसी संकट में आ जाये तब हमें हिम्मत और चतुराई से काम लेना चाहिए क्योकि यदि चतुराई से काम लिया जाये तो संकट को टाला जा सकता हे।

" पढ़ने के लिए आपका दिल धन्यवाद "

ताकत से अक्ल बड़ी हिंदी कहानी - Life Inspire Short Hindi Story

 नमस्कार दोस्तों आपका दिल से स्वागत हे तो आज हम बात करने वाले हे एक कहानी के बारे में जिसका शीर्षक हे ताकत से अक्ल बड़ी यानिकि जहाँ ताकत से काम नहीं होता वो काम अक्ल से होता हे वैसे हमारे जीवन में भी कई कठिन परिस्थिति हमारे सामने आती हे तब हमें भी अपनी ताकत से नहीं अक्ल से काम लेना चाहिए तो दोस्तों मुझे उम्मीद हे की आपको ये कहानी जरूर पसंद होगी।

चतुर कौवे की कहानी - ताकत से अक्ल बड़ी 

Life Inspire Short Hindi Story

       गोदावरी नदी के किनारे बरगद का एक बड़ा पेड़ था उस पेड़ पर कई प्रकार के छोटे मोड़े पक्षी रहते हे जबकि उस पेड़ की निचे एक खूंखार बिल्ला भी रहता था जो सभी पक्षी जब भोजन के लिए आहार की तलाश में बहार जाते तब वो खूंखार बिल्ला सभी पक्षियों के अंडे और बच्चे को खा जाता था इसलिए सभी पक्षी उस खूंखार बिल्ला से बहुत ही दुखी थे और किसी पक्षी में इतनी ताकत नहीं थी की वो उस खूंखार बिल्ला से लड़ सके या कुछ कह सके।

एक दिन की बात हे सभी पक्षीने खूंखार बिल्ला से छुटकारा पाने के लिए उस पेड़ को छोड़ देना का निर्यण लिया सभी पक्षी सहमत हुए तब वहाँ कौवे का एक जोड़ा उस बरगद के पेड़ पर रहने के लिए आता हे लेकिन सभी पक्षी उस कउवे को अपनी परेशानी बताते हे की इस पेड़ पर रहना ठीक नहीं हे क्योकि इस पेड़ की निचे एक खूंखार बिल्ला रहता हे जो हमारे बच्चो को खा जाता हे इसलिए हम सब इस पेड़ को छोड़कर जा रहे हे हमारा कहने मानो और तुम भी किसी दूसरे पेड़ पर अपना घोंसला बनावो। ये बात सुनकर कौवा सभी पक्षी से कहता हे की ना में इस पेड़ को छोड़कर जाऊंगा और ना में तुमको ये पेड़ छोड़ने दूंगा बल्कि उस खूंखार बिल्ले को ये जगह छोड़नी पड़ेगी क्योकि अगर किसी एक की वजह से कई पक्षीओ को अपना घर छोड़ना नहीं चाहिए बल्कि उस एक को ही निकाल देना चाहिए तब सभी पक्षी कौवे से कहने लगे की हम उस बिल्ले को कैसे हटा सकते हे तब कौवा सबको अपनी योजना बताता हे सभी पक्षी खुश हो जाते हे और फिर से अपने - अपने घुसने में चले जाते हे। 

दूसरे दिन सभी पक्षी भोजन की तलाश में चले जाते हे तव वो खूंखार बिल्ला पेड़ पर चढ़ाता हे तभी उनको कौवा का नया घोसला दिखाई देता हे लेकिन वो बहुत ही पतली डाली पर था और उसके पास ही बड़ी मधुमक्खिका छत्ता था जैसे ही वो बिल्ला उस घोंसले के पास जाता हे तब वो कौवा उस छत्ते को छेड़ कर वहा से उड़ जाता हे जिससे सभी बड़ी मधुमक्खी उस बिल्ले को काटने लगती हे जिसकी वजह से वो बिल्ला अपना संतुलन खो देता हे जिसकी वजह से वो निचे बहती नदी में जा गिरता हे और बाद में उसकी मौत हो जाती हे।  

इस प्रकार कौवे की चतुराई से सभी पक्षी ने अपने दुश्मन बिल्ले से छुटकारा पाया और फिर से सब पक्षी मिल झूल कर उसी पेड़ पर रहने लगे।

कहानी की सिख : जो काम हमारी ताकत से नहीं हो सकता वो काम हमारी बुद्धि चतुराई से हो सकता हे वैसे ही हमें भी अपने जीवन में हर जगह अपनी ताकत का इस्तमाल नहीं करना चाहिए कभी - कभी अपनी बुद्धि का भी इस्तमाल करना चाहिए यानिकि जहाँ ताकत काम न करे वहां बुद्धि काम करती हे।

ये भी पढ़ो। 

भरोसा पर हिंदी कहानी 

साधु और बिच्छू की कहानी 

" पढ़ने के लिए आपका दिल से धन्यवाद "

ज़िन्दगी बदलने वाले अनमोल विचार - Life Changing Thought In Hindi

कड़वी बातें जो ज़िन्दगी बदल दे


कड़वी बातें जो ज़िन्दगी बदल दे

1. अपनी शादी के चाहे कितने भी साल क्यों न हो जाये मगर दामाद कभी भी अपने ससुराल को अपना घर कभी नहीं समझता लेकिन एक लड़की शादी के पहले दिन ही अपने ससुराल को अपना घर समझने लगती हे। 

********************

2. अपनी सांसो का भी कोई भरोसा नहीं हे फिर भी हम भरोसा दुसरो पर करते हे। 

Life Changing Quotes In Hindi

*********************

3. आज का इंसान सच्ची बातों को दिमाग में रखता हे जबकि झूठी बातो के दिल में रखता हे। 

**********************

4. अगर आप शराब नहीं पीते और कोई भरी महफ़िल में आपको शराबी कह दे तो आपको बुरा नहीं लगेगा लेकिन आप शराब पीते हे और कोई आपको महफ़िल में शराबी कह दे तो आपको बहुत बुरा लगता हे यानिकि हमें सच्चाई हमेंशा कड़वी ही लगती हे। 

***********************

जो चीज हमें जरुरत के वक्त न मिले और बाद में मिले फिर उसे मिलने या न मिलने से कोई फर्क नहीं पड़ता।

Life Changing Thought In Hindi

***********************

जब तक इंसान खुद को नहीं बदल सकता तब तक वो किसी को भी नहीं बदल सकता। 

************************

 जब तक तुम खुद पर भरोसा नहीं करते तब तक तुम दूसरे पर भरोसा नहीं कर सकते 

***********************

जिन पर हम सबसे ज्यादा भरोसा करते हे अक्शर वही लोग हमारे भरोसे को तोड़ते हे। 

Life Inspirational Quotes In Hindi

**********************

जब तब तुम्हारी ज़िन्दगी का फैसले दूसरे लोग करेंगे तब तक तुम डरते ही रहेंगे 

***********************

माफ़ी मांगना और किसी को माफ़ कर देना हमारी कमजोरी नहीं बल्कि हमारी ताकत हे। 

Life Motivational Status In Hindi

************************

आज लोग आपसे नहीं बल्कि आपके समय , परिस्थिति को देखकर रिश्ते रखते हे।

*************************

जब लोगो को हमारी जरुरत होती हे तब वो लोग बिना कोई रिश्ते के भी हमसे रिश्ता बना लेते हे जबकि जब उनकी जरूरत ख़त्म हो जाती हे तब अपने रिश्ते भी हमसे मुँह मोड़ लेते हे। 

*************************

किसी भी इंसान का असली रूप हमें तब दिखाई देते हे जब वो इंसान नशे में होता हे फिर वो नशा शराब का हो , पैसे का हो या फिर सुंदरता का हो। 

**************************

आज कोई इंसान गिर जाये तो हमें हंसी आती हे जबकि हमारा मोबाईल गिर जाएँ तो हमारी जान निकल जाती हे।

*************************

आज पत्नी और बच्चे ऑनलाइन शॉपिंग कर रहे होते हे और एक बाप अपनी दुकान पर अगरबत्ती जलाकर ग्राहक का इंतजार कर रहा होता हे। 

*************************

आज लोग अपना काम न होने पर भगवान को भी बदल देते हे तो ऐसे इंसानो के लिए इंसान बदलना कौन सी बड़ी बात हे।

*************************

जो लोग अपनी ग़लती को नहीं मानते वो भला आपको अपना कैसे मानेंगे। 

**************************

पेड़ से गिरता पत्ता भी हमें ये सिख लेता हे की जब हम ज़िन्दगी में किसी के लिए बोझ बन जाते हे तो अपने ही हमें गिरा देते हे।

Life Changing Quotes In Hindi

*************************

आपने कब सही किया हे उसे कोई भी याद नहीं रखना मगर अपने कब गलत किया हे उसे सब लोग याद रखते हे। 

************************

चाहे आप बुरे दिन से ही क्यों न गुजरे लेकिन कभी भी उस दिन को ख़राब मत कहना क्योकि अच्छा दिन खुशिया लता हे जबकि हमारा बुरा दिन अनुभव सिखाते हे। 

************************

अपनी बातों को इतना मधुर रखिये की कल जब उसे वापस लेना पड़े तो कड़वी न लगे। 

*************************

अगर आधी रात आप अपने दोस्तों को एक कॉल बुलाने के लिए पहले आपको एक कॉल पर जाना भी पड़ता हे।

************************

लोग कहते हे की जो भी काम करो अच्छा और बहेतर करो लेकिन वो ये कभी नहीं चाहते की उनसे बहेतर करे। 

***********************

औकाद के बड़े दिखावे ही इंसान को कर्ज में डूबा देते हे। 

************************

दुसरो को दुःख देना बहुत आसान होता हे मगर दुसरो को सुख देना बहुत मुश्किल होता हे। दुसरो का दुःख वही जान सकता हे जिसने दुःख का एहसास किया हो।  

*************************

आज लोग आपको पैसा देने पर नहीं बल्कि न देने पर याद रखते हे।

************************* 

अक्शर झूठे इंसान की बातें हमें मीठी लगती हे जबकि एक सच्चे इंसान की बातें हमें कड़वी लगती हे क्योकि उनकी बातों में सच्चाई होती हे और सच्चाई हमेंशा कड़वी ही होती हे।

**************************

आज भावुक लोग सबंध को संभालते हे और प्रैक्टिकल लोग सबंध का फायदा उठाते हे जबकि प्रोफ़ेशनल लोग फायदा देखकर ही सबंध बनाते हे। 

***************************

ससुराल चाहे अच्छा हो या फिर बुरा लेकिन एक औरत की इज्जत ससुराल में रहने से होती हे मायके में रहने से नहीं। 

****************************

दुनिया की कोई भी चीज इतनी जल्दी नहीं बदलती हे जीतनी जल्दी इंसान की नियत और नजरे बदलती हे। 

Life Quotes In Hindi

***************************

आज लोग जो इंसान पैसे वाला हो उनको ही महत्व देते हे फिर चाहे सामने वाले इंसान का चरित्र, इरादा और आदते कैसी भी क्यों न हो। 

*************************

ज़िन्दगी के इस खेल में झूठे भी जित जाते हे और जब वक्त हमारा न हो तो अपने भी बिक जाते हे। 

************************

अक्शर वही लोग दूसरे के घर जाकर पंचायत करते हे जिन्हे खुद के घर में ही कोई इज्जत नहीं मिलती।  

************************

किसी की मदद करना हमारा धर्म हे लेकिन किसी को उधार दीजिये मगर जरा सोच समझकर दीजिये क्योकि बाद में आपको अपने ही पैसे भिखारी बनकर मांगने पड़ते हे और पैसे देने वाला इंसान सेठ बनकर तारीख पर तारीख देता हे। 

************************

दिल लगाने से बहेतर हे की पेड़ लगाए ये घाव नहीं छाँव देते हे। 

************************

गलत होकर भी खुद को सही साबित करना इतना भी मुश्किल नहीं हे जितना सही होकर खुद को सही साबित करना होता हे। 

***********************

जिनको गुलामी करके की आदत लग जाती हे वो अपनी औकात ही भूल जाते हे। 

************************

आज कल हर कोई अपने व्हाट्सप्प स्टेटस या फेसबुक स्टोरी पर ये लिखता हे की मेरी बेटी मेरा अभिमान लेकिन ये कोई नहीं लिखता की मेरी बहु मेरा अभिनाम।

************************

आज जितना डर मुँह पर कुछ और और पीठ पीछे कुछ और बोलने वालो से लगता हे उतना डर तो थप्पड़ खाने से भी नहीं लगता हे। 

**************************

लोग अमरुद खरीदते वक्त कहते हे की भैया मीठे तो हे ना और बाद में नमक और मिर्च लगाकर खाते हे। 

*************************

आज के जीवन में हम बस यही देखते हे की हमारे आगे कौन हे और हमसे पीछे कौन हे लेकिन हम ये कभी नहीं देखते की हमारे साथ कौन हे और हम किसके साथ हे।

**************************

आज हम सब एक ऐसे समाज में रहते हे जहा सुंदरता को रंग से , शिक्षा को माक्स से और सन्मान को पैसे से देखा जाता हे। 

****************************

लोग आपके बारे में अच्छा सुनने पर शक करते हे जाकी आपके बारे में बुरा सुनने पर तुरंत यकीन कर लेते हे। 

****************************

अपनी ज़िन्दगी में हमेंशा एक बात याद करना की जिस इंसान के लिए आप हमेंशा Available  रहते हो वो ही इंसान कभी आपकी Value नहीं समझेगा। इसलिए हर बार किसी के लिए Available रहना छोड़ दे।

**************************

कुछ लोग आपसे इसलिए भी नफ़रत करते हे क्योकि आपकी सही बातें उन्हें कड़वी लगती हे। 

*************************

अपने पति के सर पर वही औरत इज्जत की चादर पहना सकती हे जिस औरत की परवरिश एक अच्छी और संस्कारी माँ ने की हो।

***************************

आज कल लोग गाय को चराने में शर्म होती हे जबकि एक कुत्ते को घुमाने ने गर्व महसूस करते हे। 

*************************

" पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद "

एक साधु की प्रेरणदायी हिंदी कहानी - Best Hindi Story Writing

जब कोई नजर नहीं आता तब एक खुदा ही नजर आता हे तो दोस्तों आज हम एक साधु की प्रेरणादायी कहानी के बारे में बात करने वाले हे। ये कहानी एक साधु की हे जिसको भगवान पर बहुत भरोसा था उसके हिसाब से भगवान जो करता हे वो अच्छा ही करता हे। तो दोस्तों मुझे उम्मीद हे की आपको ये पोस्ट जरूर पसंद होगी। 

एक साधु की प्रेरणादायी हिंदी कहानी


साधु की प्रेरणादायी हिंदी कहानी 

एक दिन की बात हे एक साधु बारिश के मौसम में एक गांव में से दूसरे गांव जा रहे थे तब अचानक रास्ते में बारिश होना शरू हो गया बारिश से बचने के लिए साधु एक पेड़ की निचे चले गए और जब बारिश आना बंध हुआ तब फिर से अपनी मस्ती में वो आगे चलने लगे।

रास्ते में चलते - चलते साधु ने एक समोसे की दूकान देखि उनको भूख भी बड़ी जोर से लगी थी, दूकान को देखकर साधु उस दूकान के पास पहुंचकर दुकानदार से कहने लगे की मुझे बड़ी भूख लगी हे आपके पास कुछ बचा हो तो आप मुझे खाना देने की कृपा करे दुकानदार साधु की आवाज सुनकर तुरंत बोल पड़ा हां साधु महाराज आप बैठो में आपके लिए अभी गरमा - गरम समोसे लाता हु थोड़ी देर बाद वो दुकानदार साधु के लिए गरमा - गरम समोसे लेकर आया साधु में समोसे खाये और आकाश की तरह अपना मुँह रखकर भगवान से कहा भगवान सबका भला करना और वहा से चलने लगे।

साधु अपने मस्ती में रास्ते पर पानी उछालते हुए जा रहे थे तब वही पर एक नवदम्पति भी रास्ते से गुजर रहे थे ये बात साधु को पता नहीं थी क्योंकि वो अपनी मस्ती में थे इसलिए साधु ने जैसे पानी उछाला वो पानी वो नवदम्पति पर जा गिरा जिसकी वजह से उनने कपडे गंदे हो गए जिसकी वजह से वो युवक साधु पर बहुत ही गुस्से हुआ और साधु को दो थप्पड़ मार दिया और बहुत कुछ कहने लगा साधु ने आकाश की और देखा और कहा वाह प्रभु तेरी माया कभी गरमा - गरम समोसा तो कभी गरमा - गरम थप्पड़ वाह तेरी माया ऐसा बोलकर अपनी मस्ती में वो अपने रास्ते पर चलने लगा। वो कपल भी अपने रास्ते पर चलने लगा थोड़ी देर बाद वो अपने घर में प्रवेश करते हे तब बारिश की वजह से सीडी की फिसलन की वजह से उस नवयुवक का पैर फिसल गया और उसका सिर दीवाल पर टकराया जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई ये देखकर उसकी पत्नी जोर - जोर से चिल्लाने लगी जिसकी वजह से कई लोग इख्ठ्ठे हो गए तब भीड़ देखकर वो साधु भी वहां पहुंच गया तब उस साधु को देखकर उस युवक की पत्नी कहने लगी की इस साधु की वजह से मेरे पति की मौत हो गई रास्ते में जब उन्होंने इस साधु को थप्पड़ मारा था तब इस साधु ने उनको श्राप दिया था जिसकी वजह से मौत हो गई ये सब सुनकर सब लोग उस साधु पर गुस्से हो गए तब वो साधु कहने लगा की इसमें मेरी कोई गलती नहीं हे। ये सब भगवान के आधीन हे क्योकि गंदा पानी जब तुम्हारे पर गिरा तो तुम्हारे पति को ये बिलकुल नहीं पसंद आया तो कोई भगवान के भक्त को थप्पड़ मारे ये भगवान को कैसे पसंद आएगा यानिकि जब तुम्हारे पति को ये अच्छा नहीं लगा तो मेरे भगवान को कैसे अच्छा लगता जब कोई उसके भक्त को थप्पड़ मारे। जैसे तुम्हारी रखवाली तुम्हारा पति करता हे वैसे मेरी रखवाली मेरा खुदा करता हे अब तुम ही सोचो इसमें मेरी कोई गलती हे और मैने कोई श्राप भी नहीं दिया हे। 

कहानी की सिख : 

जब हमें अपने भगवान पर भरोसा होता हे तब सब कुछ अच्छा ही होता हे बस हमें अच्छे कर्म करते रहना चाहिए और भगवान पर भरोसा रखना चाहिए।

4 चोरो की प्रेरणादायी कहानी - Inspirational Story Of 4 Thieves In Hindi

Inspirational Story Of 4 Thieves In Hindi

जनकपुर नामक एक गांव था उस गांव में चार चोर रहते हे उनका काम बस चोरी करना और अपना परिवार का भरण पोषण करना था यानिकि वो चार चोर छोटी - छोटी चोरी करके अपना और परिवार का जीवन चलाते थे ऐसे कई सालो से चले आ रहा था लेकिन एक दिन की बात हे वो चार चोर गांव के पास एक मंदिर था उस मंदिर पर एकत्रित हुए और सभी का यही कहना था की अब हमें ये चोरी का काम छोड़ देना चाहिए तब उनके मन में ये विचार आता हे की हम चोरी करना छोड़ देंगे तो फिर हमारा परिवार कैसे चलेगा तभी एक चोर ने खड़े होकर कहा की हम एक ऐसी बड़ी चोरी करेंगे की उसके बाद हमें चोरी ही नहीं करनी पड़ेगी सभी चोर उनकी बात से सहमत थे और सभी ने इस निर्यण को स्वीकार लिया की हम ये लास्ट चोरी करेंगे और उस धन या पैसे से कुछ धंधा करेंगे उसके बाद वो चार चोर अपने अपने घर चले गए।

Inspirational Story Of 4 Thieves In Hindi


चार चोरो की कहानी हिंदी में

दूसरे दिन वो चार चोर फिर से उस मंदिर पर एकत्रित हुए और रात का इंतजार करने लगे जब रात हुई तो वो सभी पास वाले गांव में एक सोनी की दुकान थी उसमे चोरी करने पहुँच गए और सभी जहरात , सोने के सिक्के सब कुछ लेकर वापस अपने गांव जाने लगे तब रात के करीबन दो बज रहे थे सभी को भूख बहुत जोर से लगी थी ऐसे में एक चोर ने कहा की हम दो इन चोरी के धन की रखवाली करते हे और तुम दोनों गांव से कुछ खाना ले आओ तब दो चोर खाना लेने गए तो दो चोर चोरी किये हुए धन की रखवाली करने लगे। 

तब जो चोर धन की रखवाली करते थे उनके मन में लालच हुआ और दोनों ये निर्यण लिया की जब वो दोनों खाना लेकर आये तब उनको कुआ के पास लेकर जाना और धक्का दे देना और फिर हम दोनों इस धन को आधा - आधा कर लेंगे और वो दोनों उन दो चोरो का इंतजार करने लगे थोड़ी देर बाद वो दो चोर खाना लेकर वापस आये तो उनको कुआ में धक्का दे दिया जिसकी वजह से उनकी मौत हो गई अब बचे सिर्फ दो चोर जो धन की रखवाली करते हे उन्होंने खाना खाया और वो भी मर गए क्योकि वो दो चोर जो खाना लेने गए थे उनके मन में भी लालच हुआ था की हम इस खाने में जहर मिला देते हे जिसे वो इस खाने को खाकर मर जायेंगे और हम दोनों धन को आधा - आधा कर लेंगे लेकिन अंत में वो धन किसी के हाथ में न लगा बस वही के वही पड़ा रहा। 

कहानी की सिख : 

छोटी सी कहानी हे लेकिन कहानी की सिख बहुत बड़ी हे की जैसे हम दुसरो के लिए करते वही हमारे साथ भी होता हे अगर आज आप किसी को धोखा दे रहे हो तो कल कोई आपको धोखा देगा अगर कोई आज आपको रुलाता हे तो कल कोई और उसको रुलाएगा यानिकि ये सब कर्मो का खेल हे जैसे हम कर्म करेंगे उनका फल भी हमें वैसा ही मिलेगा। 

अगर उस चार चोर ने आपस में मिल झूल के धन को बाट लिया होता तो कुछ न होता बल्कि एक लालच की वजह से धन भी हासिल न कर सके इसलिए ज़िन्दगी में कभी भी लालच नहीं करनी चाहिए जितना मिल रहा हे या हमारे पास जितना हे उसमे संतोष मान लेना चाहिए।

इंसान की पहचान उनके कपडे और बाह्य देखव से नहीं होती बल्कि उनके कर्मो से होती हे।

" पढ़ने के लिए आपका दिल से धन्यवाद "

*********************

जैसे के साथ तैसा - Tit For Tat Hindi Story

 हेल्लो दोस्तों आज हम आपको जैसे को तैसा ( Tit For Tat Story In Hindi ) पर एक कहानी के बारे में इस पोस्ट में बात करने वाले हे ये कहानी बहुत ही मजेदार हे जो हमें जीवन में कैसे जीना चाहिए ये सिखाती हे तो चलो इस कहानी को शरू करते हे। 

जैसे को तैसा


जैसे को तैसा - Tit For Tat

रामपुर नामक एक गांव था उस गाम में एक बहुत ही धनवान औरत अकेली रहती थी क्योकि इनके पति और उनके दो पुत्रो का अकस्मात में मौत हो चुकी थी। इसलिए वो अकेले ही रहती थी उसके पास धन दौलत की कोई कमी नहीं थी यहाँ तक की घर में बहुत कीमती फर्नीचर और दूसरी भी बहुत कीमती चीजे थी जिसकी वजह से उनकी जिन्दगी ऐशो आराम से गुजर रही थी। 

जैसे को तैसा लघु कथा 

  कुछ सालो के बाद की बात हे की उस धनि औरत की दष्ट्री अचानक से चली जाती हे जिसकी वजह से वो औरत बहुत ही चिंतित हो जाती हे और वो शहर के एक मशहूर डॉक्टर को अपना इलाज करने के लिए अपने घर पर बुलाती हे और डॉक्टर उस अंधी औरत के घर आता हे दोनों के बिच बात -चित होती हे और अंत में ये शर्त रखी गई की औरत की आंखे जब अच्छी हो जाये तब वो औरत डॉक्टर को पूरी फ़ीस दे देगी ये शर्त औरत और डॉक्टर दोनों ने मान ली। 

    शर्त के अनुसार डॉक्टर प्रतिदिन उस अंधी और धनवान औरत के घर उनकी आँखों के इलाज करने के लिए आने लगा। जब डॉक्टर उस औरत के घर आता था तब उसकी नजर कीमती फर्नीचर और कीमती चीजे को देखकर डॉक्टर के मन में लालच होता हे और वो हर दिन कोई न कोई कीमती चीज उठाकर अपने घर ले जाता था और वो सोचता था की इस औरत को कुछ दिखाई नहीं देता तो उसे चोरी मैने की हे ये पता कैसे चलेगा। इस तरह उस लालची डॉक्टर ने उस औरत के घर से कई सारी कीमती चीजे गायब कर दी।

जैसे को तैसा कहानी

लगातर इलाज करने की वजह से उस धनी औरत की आंखे धीरे - धीरे अच्छी हो गई और वो अब सब कुछ देख सकती थी लेकिन उसने जब उसके घर का फर्नीचर और क़ीमती चीजे नहीं दिखाई दी तो वो समझ गई की ये काम डॉक्टर का ही हो सकता हे यानिकि उनको डॉक्टर की चोरी का पता चल गया लेकिन उसने सही मौके का इंतजार किया और वो चुप रही। 

Tit For Tat Hindi Story


कुछ दिनों के बाद के बाद उस डॉक्टर का कॉल आया और उसने बताया की अब तो आपकी आंखे अच्छी हो गई हे अब आप शर्त के अनुसार मेरे पूरी फ़ीस मुझे दे दे तब उस धनी औरत ने डॉक्टर को फ़ीस देने से इनकार कर दिया तब डॉक्टर ने उस औरत के ख़िलाफ़ अदालत में शिकायत दर्ज कर दी। 

Tit For Tat Story In Hindi

उस धनी औरत को अदालत में पेश किया गया और उस औरत को न्यायाधीश ने कहा की बहन इस भले डॉक्टर के सही इलाज से ही तुम्हारी आंखे अच्छी हो गई हे और अब तुम ही उसे फ़ीस देने से इनकार कर रही हो जबकि तुम्हारी ये शर्त थी की जब तुम्हारी आंखे अच्छी होगी तब तुम पूरी फ़ीस डॉक्टर को दे देंगी। तब उस धनी औरत के न्यायाधीश को कहा की यदि में देख सकती , तो मुझे अपने घर का सारा फर्नीचर और अन्य क़ीमती चीजे क्यों दिखाई नहीं देती। अब न्यायाधीश को पूरा मामला समझ में आ गया और उन्होंने डॉक्टर से कहा की तुमने इस औरत के घर से जो - जो कीमती चीजे और फर्नीचर चुराए हे उसे उन्हें लौटा दो। तुमने एक डॉक्टर होते हुए भी एक अंधेपन व्यक्ति के लाचारी और मज़बूरी का फायदा उठाया हे जिसे तुमने इसके अंधेपन का इलाज लिया हे उसके लिए तुम्हे एक पैसा भी नहीं मिलेगा और यही तुम्हारी सज़ा हे। 


सिख - कहानी बहुत ही छोटी हे लेकिन कहानी की सिख बहुत ही बड़ी हे हमें इस कहानी से ये सीखना चाहिए की हमें किसी भी इंसान की मज़बूरी लाचारी का कभी फायदा उठाना नहीं चाहिए। एक इंसान होने के नाते हमें पैसो के खातिर इंसानियत को जिन्दा रखना चाहिए क्योकि खुदा का यही उसूल हे की जो भी आप दुसरो को देंगे वही वापस आपको मिलेगा फिर वो चाहे प्रेम हो , धोखा हो या फिर इज्जत हो हमें वही मिलेगा जो हमने दिया होगा या किया होगा इसलिए हमें हर इंसान को उसके जज्बात को समझना चाहिए और उसे हो सके तो मदद करनी चाहिए। अंत में बस आपको यही बोलना चाहूंगा की आप बस अपने कर्म अच्छे करते रहे इंसान तो क्या खुदा भी उसको लाइक करेगा आपके कर्म ही आपकी पहचान हे। 

गरीब लड़की बनी डॉक्टर 

आत्मविश्वास की जित 

अगर आपको ये कहानी अच्छी लगी हो तो आप इस कहानी को अपने दोस्तों के साथ परिवार के साथ भी सेर करे ताकि वो भी इस कहानी पढ़कर कुछ ना कुछ सिख सके।

close button