सावन की बरसात शायरी - Savan Ki Barsat Shayari

 ------------------------

सावन की बरसात शायरी

 -------------------------

Savan Ki Barsat Shayari


(1) सावन 💦 का मौसम के साथ तुम्हारी याद 😒 आती है।

बारिश 🌈 के हर कतरे से तुम्हारी आवाज़ आती है।

जब बादल गरजते है, तो दिल की धड़कन बढ़ जाती है।

और दिल की हर एक धड़कन से तुम्हारी 💁 आवाज़ आती है।

--------------------------

सावन की बारिश पर शायरी 

----------------------------

(2) सावन 💦 हर साल आता है।

कभी कम कभी ज्यादा भीगाता है।

आओ मिलकर 👭 झूमे इस बारिश 🌧 में।

फिर ये लम्हा कहा लौटकर आता है।

--------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

--------------------------------

सावन का मौसम पर शायरी 

---------------------------------

(3) मौसम ⛈ ये सावन का कुछ 

याद 😗 दिलाता है।

किसी के साथ 💏 होने का एहसास

दिलाता है।

फिजा भी सर्द है यादें भी ताजा है

ये मौसम आज 

किसी का प्यार 💖 दिल में जगाता है।

-------------------------------


(4) ये सावन की बारिश जरा 

थम के 💦 बरस।

जब मेरा सनम 💃cआ जाये तो 

जम के बरस।

पहले ना बरस की वो आ न सके।

जब वो आ जाए तो इतना बरस 💦की

वो जा न सके।

----------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

-----------------------------

सावन पर शायरी 

---------------------------

(5) सावन 🌈 आता है और तुम्हारी याद

दिलाता है। 

तुमसे दूर होने का एहसास 😌 दिलाता है।

आंखे 👀 है नम और जख्म भी ताजा है।

तुमसे  ये मौसम 🌅 फिर प्यार

करवाता है।

------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

-----------------------------

सावन की प्यार भरी शायरी 

----------------------------

(6) अजीब दास्ता है सावन के 

बरसात 💦 में।

कोई ना चाहते हुए भी शिद्दत 💥से

याद 💘आता है। 

-----------------------------

(7) खुल के बरसता 💦 ही नहीं ये 

कैसा सावन 🌈 है।

तेरी जुल्फों की घटा ही 

 सही 👀 देखने में।

---------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

----------------------------

सावन की पहेली बारिश शायरी 

--------------------------


(8) तुम्हे भूलना तो चाहा मगर

क्या करे❓।

तुम फिरसे याद आने लगती हो

सावन 💦आते ही।

-----------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

-------------------------

सावन की शायरी 

-------------------------

(9) खुद तो आया है सावन,

त्योंहार साथ में 👯लाया है,

स्वान की नजाकत देख कर ये,

मन 😇 खुशियों से भर आया है।

-------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

------------------------------

सावन की बारिश पर शायरी 

-------------------------------

(10) आँख 👀 मेरी भर आई है 

ये कैसी जुदाई 😗 है।

सावन 💫 की हर एक बरसती बूँद💦

में सिर्फ तेरी ही परछाई 👤 है।

------------------------------

(11) अब के सावन में शरारत ये

मेरे साथ 👧 हुई,

मेरा घर 🏡 छोड़ के कुल शहर में

बरसात 💦 हुई।

-------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

----------------------------

(12) मुझे भी रुला 😓 के जाता है 

खुद भी रोता 😪 है।

ये सावन 💫 का मौसम 

मेरे साथ हर पल 💑 होता हे। 

--------------------------

(13) तुमने बहुत बरसाते 💦देखी है,

मुझे मालूम है,

मगर मेरी इन्हीं आँखों 👀 से सावन

भी हार 😔 जाता है।

--------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

--------------------------

(14) लाख बरसे झूम के ये सावन

मगर वो बात कहाँ,

जो ठंडक पड़ती है मेरे दिल में 

तेरे मुस्कुराने से।

--------------------------

(15) तुम्हारी यादो 😌 में कितने 

सावन 🌧 गुजरे,

कोई सावन ऐसा दो जो बीते

तुम्हारी बाहों 🤗 में।

-----------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

---------------------------

(16) ये सावन ☑ बड़ा सताता है जब

तुम रूठ 😕 जाती हो तो,

यह बारिश 💦में बहाने मुझे भी

बड़ा रुलाता है।😰

----------------------------

(17) मुझे पतझड़ दिया था ⊗ वक्त 

ने सौगात में,

मैने सावन 💦 चुरा लिया वक्त

की जेब से।

------------------------------


Savan Ki Barsat Shayari

--------------------------

(18) इस सावन 🌧 में हम भीग जायेंगे,

दिल में तमन्ना के फूल 🥀 खिल जायेंगे,

अगर दिल करे मिलने को तो याद करना,

हम बरसात 💦 बनकर बरस जायेंगे।

---------------------------

(19) कई संमदर 💺 रोक कर बैठे है 

आँखों 👀 में,

दगाबाज निकला सावन तो हम

खुद ही बरस 💦 लेंगे।

-------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

---------------------------

(20) इसे सावन की बरसात 💦की तरह

झरने दो,

ये तुम्हारा 👮 नाम मेरे सीने में,

मेरी साँसो में रहने दो।

--------------------------

(21) हम भले ही सावन में भीगे ना हो,

मगर मैंने दिल 💗 को आंसुओ में

डुबोया है।

------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

-------------------------------

(22) अबकी सावन 💦 में आसमान भी

बरसा नहीं,

मेरी आँखे 👀 बरसती रही दिल 💔के

आँगन में।

-------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

----------------------------------

(23) दिल 💓 जलने लगता है जिस मौसम 💢 में,

वो सावन 🌈 का महीना आ गया।

--------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

-------------------------------

(24) सावन 💦 का मजा लेना है,

तो घर 🏠 से बहार आना होगा,

कपड़ो 👚की फ़िक्र किये बिना,

फिर मस्ती से भीग जाना होगा।

--------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

-------------------------------

(25) इश्क 💕 में जो गुजरे सावन सुहाने

याद 😗 आते है।

मुझको तेरी जुल्फों के शामियाने

याद आते है।

------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

--------------------------------

(26) कैसे चुराते है सावन में खुशिया,

बताओगे क्या❓

मै भीग रही हूँ बारिश 💦 में तुम भी

आओगे क्या।

--------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

---------------------------------

(27) मेरा दिल घायल है ये तड़पता

बड़ा है,

इन आँखों का सावन बरसता 

बड़ा है।

-------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

--------------------------------

(28) मेरी आँखे सावन की तरह

बरसती है,

एक बार उसे जी भरकर देखने

को तरसती है।

-------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

--------------------------------

(29) आज मुझसे ये बरसात कुछ

कह गयी,

मेरी बाहों में आज फिर तेरी कमी

रह गयी।

------------------------------



----------------------------------

(30) मै जितना हंसा उससे ज्यादा

रोया हु,

इंतजार ने आँखों को सावन

बना दिया।

------------------------------

Savan Ki Barsat Shayari

" पढ़ने के लिए आपका दिल से धन्यवाद "

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

close button