बचपन पर बहेतरीन शायरी - Bachpan Par Shayari Hindi Me

बचपन की यादें हर एक इंसान की आँखों को भर देती हे क्योकि हमारा बचपन ही ऐसा होता हे ना कल की फ़िक्र होती हे और ना ही धन कमाने की। बचपन में किसी भी प्रकार की कोई जिम्मेदारी नहीं होती बस खेलना और मस्ती करना यही होता हे। इसलिए आज हर एक इंसान को बचपन के वो दिन बहुत याद आते हे तो दोस्तों आज हम बचपन पर कुछ शायरी लेकर आये हे हमें उम्मीद हे की आपको ये शायरीया जरूर पसंद होगी।

Bachpan Ki Shayari, Bachpan par Shayari, Bachpan Ki Yaad Shayari, Bachpan Ke Liye Shayari , Bachpan Shayari In Hindi, 

----____________----

बचपन पर शायरी 

-----___________----


बचपन के दिन भी कितने अच्छे 👌 दिन थे 

तब दिल 💗 नहीं सिर्फ खिलौने टूटा करते थे अब तो 

एक आँसू 😓 भी बर्दाश नहीं होता 

और बचपन में जी भरकर रोया 😭 करते थे।

________________________


बचपन शायरी

_________________________


अजीब सौदागर है ये वक्त ⨂ भी

 जवानी का लालच देकर 

हमारा बचपन ही ले गया 😪। 

________________________


लगता है उसके 💁 माँ बाप ने 

बचपन में उनको खिलौने 😡 नहीं दिए 

तभी तो पगली हमारे दिल 💖 से खेल रही हे। 

____________________________________________________________


 फिर से बचपन 👻 लौट रहा है शायद .....

 जब भी नाराज होता हूँ

 खाना छोड़ देता हूँ 😓।

_____________________________


ज्यादा कुछ 👉 नहीं बदला मेरी 

उम्र बठने के साथ बस एक 

बचपन की जिद 💪थी वो 

समझोतो में बदल गई। 

______________________________


बचपन में तो शाम 🌄भी हुआ करती थी

अब तो बस सुबह के बाद रात 🌃 होती है। 

______________________________


बचपन शायरी इन हिन्दी


_____________________________


चलो आओ कभी टूटी हुई चूड़ी के टुकड़े से 

वो बचपन की तरह फिर से मोहब्बत 💓नाप लेते 

है। 

______________________________


याद 😗 आता है हमें वो बिता हुआ बचपन 

तब खुशियाँ छोटी होती थीं। 

_________________________

बचपन याद शायरी 

_________________________


बाग में तितली 🦋 को पकड़ कर खुश होना 

तारे ⭐ तोड़ने जीतनी ख़ुशी देता था वो बचपन हमारा।

_____________________________

टेंशन पर शायरी 


झूठ बोलते थे फिर भी कितने सच्चे ✅ थे हम 

ये उन दिनों की बात है जब बच्चे 👱 थे हम ।

____________________________


बचपन भी कमाल 👌 का था 

खेलते खेलते चाहे छत पर सोये 

या जमींन पर 

आँख 👀 बिस्तर पर ही खुलती थी। 

_____________________________


रोने 😥 की वजह भी न थी 

और न हँसाने 😂 का बहाना था

क्यों हो गए हम इतने बड़े 

इससे अच्छा तो वो हमारा 💏 बचपन का जमाना था। 

________________________________


बचपन बेस्ट शायरी

_____________________________

एक इच्छा है भगवान 🙏 मुझे बच्चा बना दो 

लोटा दो मेरा बचपन मुझे फिर से बच्चा बना दो।

______________________________

बचपन शायरी 2 लाइन 

__________________________

बचपन में आकाश को छूता सा लगता था 

इस पीपल की शाखाओ में अब कितनी नीची है। 

_______________________________


दूर मुझसे हो गया बचपन मगर 

 मेरे बचपन 👲 का बचपना आज भी जिन्दा हे। 

________________________________


बचपन से हर शख्स याद 😒 करना सिखाता रहा 

  लेकिन भूलते कैसे है ये बताया नहीं किसी ने 😓। 

_________________________________


ना कुछ पाने की आशा 👋ना कुछ खोने का डर 

बस अपनी ही धुन बस अपने ही सपनो का घर 

काश मिल जाए फिर मुझे वो बचपन।

_________________________________


जो सपने हमने बोए थे की ठंडी छाँवो में 

कुछ पनघट पर छूट गए तो 

कुछ कागज की नवो में बह गए । 

__________________________________


बचपन की दोस्ती 👬 थी और बचपन का प्यार 💘 था 

तू भूल गया तो क्या तू मेरे बचपन का यार 👬 था।

__________________________________


बचपन शायरी इमेज

_______________________________


मेरे रोने का जिस में किस्सा है 

वो मेरी उम्र का सबसे बेहतरीन 👌 हिस्सा है।

________________________________

स्कूल की याद शायरी 


हँसने 😅 की भी वजह ढुढनी पड़ेगी अब

शायद मेरा बचपन ख़त्म होने को है। 

________________________________


 चील उडी कौआ उडा 

शायद बचपन भी कही उड़ ही गया हे।

_________________________________


कई सितारों ✶ को में जानता हूँ बचपन से 

कही भी जाऊ वो मेरे साथ - साथ ही चलते हे।

__________________________________

बचपन की यादे पर शेर 


देखो बचपन में तो बस शैतान 😡 था 

मगर अब खुखार 😎 बन गया हूँ।

__________________________________


बचपन पर शायरी

______________________________

वक्त ⊗ से पहले ही वो हमसे रुठ 😒 गयी हे 

बचपन की मासूमियत न जाने कहा छूट गई😗

_______________________________


शौख जिंदगी 👨 के अब जरूरतों में ढल गये 

शायद बचपन से निकल हम बड़े हो गये। 

________________________________


अपना बचपन भी कमाल 👌 का हुआ

करता था,

न कल की फिक्र ना आज का ठिकाना हुआ 

करता था। 

_________________________________

बचपन की मुस्कान शायरी 

___________________________

हॅसते खेलते गुजर जाये वैसी शाम 🌅 नहीं 

आती 

होठो पे बचपन वाली मुस्कान 😅 अब फिर से नहीं 

आती।

___________________________________

बचपन के लिए शायरी 

 ___________________________________


कौन कहता है की मै जिंदा नहीं

बस बचपन गया बचपना नहीं। 

____________________________________


बचपन शायरी २०२२

_____________________________________

" पढ़ने के लिए आपका दिल से धन्यवाद "

__-------------------------------__


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

close button