महेनत पर बेस्ट शायरी, स्टेटस और सुविचार हिंदी में

महेनत पर शायरी

 

रख यकीन अपनी महेनत पर 

ना की अपनी किस्मत पर 

वो दिन भी आएंगे जब 

सफलता तेरे कदमों झुकेगी 


महेनत के बिना कुछ भी 

हासिल नहीं होता 

कबतक बैठे रहोगे करके 

किस्मत पर भरोसा 


हमें भी अब ये यनिक हो गया हे 

खुदा तुम्हारी इस रहमत का 

रंग रूप भी बदलता हे यहाँ 

बस सब्र करे अपनी महेनत का 


कुछ हासिल नहीं होता इस दुनिया में 

बिना महेनत के बिना 

मुझे अपना छाया भी 

धुप में जाने से मिलता हे 


महेनत आज नहीं तो कल देती हे 

जो करता हे महेनत उसे फल देती हे 


लड़ मुश्किलों से और 

जिगर पैदा कर

महेनत करते तू 

हूनर पैदा कर 


आज सीखा हे मैने भी 

ज़िन्दगी से एक तुजुर्बा 

जिम्मेदारी इंसान को वक्त से 

पहले ही बड़ा बना देती हे 


यु मेरा टूट कर बिखर जाना 

कोई इत्तेफाक तो नहीं हे 

किसी ने बहुत महेनत की होगी 

मुझे इस हाल में पहुंचाने के लिए 


अपनी प्रतिभा दिखा देंगे अपने

 हौसलों के दम पर 

भले कोई मंच ना दे हमको हम 

पर हम मंच बना देंगे अपने दम पर


ऊँची उड़ान का जब हौसला 

बना लिया 

फिर देकना कद आसमान का 

फिजूल हे। 



सबको मौका देती हे किस्मत लेकिन 

महेनत सबको चौका देती हे 

इसलिए महेनत करते रहो कामयाबी 

जरूर मिलेंगी।



थोड़ा सब्र भी करे महेनत का 

कोई काम करो 

महेनत का फल जरूर मिलता हे 

मगर थोड़ी देर से मिलता हे। 


महेनत पर स्टेटस 


महेनत का फल और 

समस्या का हल देर से ही सही 

लेकिन मिलता जरूर हे। 


अगर बुरा वक्त हो 

तो महेनत करना और 

अच्छा वक्त हो तो 

दुसरो की मदद करना 


तुम्हारी किस्मत पर लिखा 

तुमसे कोई छीन नहीं सकता 

अगर भरोसा हे आपको अपनी महेनत पर 

तो तुम्हे वो भी मिलेगा जो तुम्हारा हो नहीं सकता 


जब अपनी महेनत का सिक्का 

उछलता हे तब , 

Head भी तुम्हारा होता हे और 

Tail भी तुम्हारा होता हे 


जब लोग साथ न दे तो

कभी मायूस मत होना क्योकि

सपने तुम्हारे हे तो महेनत भी आपको 

ही करनी पड़ेगी लोगो को नहीं।


जवाब आपको भी मिलेगा 

जरा थोड़ा सब्र तो करो 

मेरी ज़िन्दगी को तबाह करने में 

महेनत तुम्हारी भी शामिल थी 


महेनत पर सुविचार 


इस दुनिया में सिर्फ तीन लोग ही सुबह जल्दी उठते हे 

माँ , महेनत और मजबूरियां। 


सपने और लक्ष्य में एक ही अंतर हे 

सपने के लिए 


महेनत इतनी करो की जहाँ भी जाओ 

उस महफ़िल में तुमसे बड़ा न कोई हो 


कमिया तो सभी की नजर आती हे लेकिन 

महेनत किसी को नजर नहीं आती 


ज़िन्दगी में बस यही सीखा हे की महेनत करना पर रुकना नहीं 

हालत कैसे भी क्यों न हो पर किसी के आगे झुकना नहीं 


इतना भरोसा था उसे अपनी महेनत पर 

की उसकी किस्मत को भी खुद से 

ज्यादा उस पर भरोसा था। 


महेनत करने से हर काम सफल हो जाता हे  

भीड़ से भरी इस दुनिया में नाम 

अव्वल हो जाता हे। 


 किस्मत की इतनी औकात नहीं 

की वो महेनत के आगे 

आपके सपने पुरे न होने दे। 


साम्राज्य बनाने में बहोत महेनत लगती हे 

पर जब बनता राज आपका 

तो राजा भी आप ही बनते हे। 


मुझे कामयाबी मिले ये अलग बात हे 

पर में महेनत ही न करू ये 

गलत बात हे। 


भरोसा करते हे जो महेनत पे 

वो किस्मत की बात कभी

नहीं करते। 


वो उतना ही ज्यादा निखर हे 

जो जितना ज्यादा झुलसता हे 

जो सह ले तकलीफ महेनत की 

वो हर रोज चमकता हे। 


काँटों भरी राह पे चलना पड़ेगा 

कुछ कर दिखाना हे तो 

आसमान को छू ना हे तो कड़ी धुप में 

भी तपना पड़ेगा। 


सिर्फ सजावट बया करती हे हाथ

की लकीरे 

किस्मत अगर मालूम होती तो 

महेनत कौन करता। 


वो सफलता नहीं देख पाता जो 

महेनत से जी चुराता 

महेनत से ही पूरा होता हर सपना 

जब पड़ता हे जी जान से तपना। 


भाग्य बदलता हे कड़ी महेनत से 

इसलिए अपने भाग्य को बदलने के 

लिए कड़ी महेनत बहोत 

जरुरी हे। 



महेनत के बिना कुछ नहीं मिलता 

दुनिया में 

मेरा अपना छाया भी मुझे धुप 

में आने से मिला। 



खास बात हे एक कामयाबी की 

भी की वह महेनत करने वालो पर 

ही फ़िदा हो जाती हे। 



किस्मत से दौलत मिलती हे महेनत से 

रोटी मिलती हे 

खुदा की खास नजर हे जिस बन्दे पर 

उसे हमारी दोस्ती मिलती हे। 




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

close button