जीवन में मेहनत का महत्व - Importance Of Hard Work In Hindi

 हेल्लो दोस्तों आपका दिल से स्वागत हे तो आज हम बात करने वाले हे की हमारे जीवन में महेनत का यानिकि परिश्रम का क्या महत्व हे? महेनत से हम क्या कर सकते हे? एक महेनत ही एक ऐसा विकल्प हे जिसे हम खुद को दुसरो को भी बदल सकते हे कोई भी इंसान अपने गुजरे हुए कल को कभी नहीं बदल सकता लेकिन कोई भी ऐसा इंसान नहीं जो अपने आने वाले कल को ना बदल सके लेकिन उनके लिए महेनत करना बहुत ही जरुरी हे। 

प्रस्तावना : 

अगर आप एक विधार्थी हे तो आपने ये जरूर सुना होगा की महेनत ही सफलता की कुंजी हे यानिकि अगर आपको सफलता का स्वाद चखना हे तो आपको महेनत रूपी कुंजी को हासिल करना होगा तभी आप सफलता के दरवाज़े को खोल सकते हे। किसी भी इंसान के लिए महेनत एक ऐसा हथियार जिससे कोई भी इंसान अपनी परिस्थिति को , अपने हालातो को , अपने आप को बदल सकता हे इस दुनिया में कोई भी ऐसा काम नहीं हे जो बिना महेनत के पूरा हो इसलिए किसी भी काम को पूरा करने लिए महेनत उसका प्रथम चरण हे। जो भी इंसान महेनत से दूर भागता हे यानिकि महेनत का महत्व नहीं जानता वो हमेंशा के लिए दुखी और दूसरे इंसानो पर निर्भय रहता हे। 

महेनत का कोई विकल्प नहीं 

महेनत का कोई विकल्प नहीं होता जो भी इंसान इस जीवनरूपी दौड़ में सच्चे दिल से महेनत करता हे वो विजय ही होता हे जबकि जो इंसान इस जीवनरूपी दौड़ में महेनत नहीं करता महेनत में पूछे हट करता हे वो कभी भी कुछ हासिल नहीं कर सकता कुछ नया नहीं सिख सकता इतना ही नहीं वो कभी भी अपनी अंदर की शक्ति को अपनी स्किल को नहीं बढ़ा सकता। अगर आपकी प्रगति धीमी हे और आपसे बार - बार गलती हो जाती हे तो कभी चिंता मत करे क्योकि आप उन लोगो से तो कई ज्यादा आगे हो प्रयास ही नहीं करते। 

महेनत और किस्मत 

कभी भी अपनी किस्मत पर मत बैठे रहिये की मेरे किस्मत हो होगा वो मुझे मिलेगा लेकिन क्या पता खुदा ने किस्मत के आगे भी महेनत हो। किस्मत मौका देती हे लेकिन महेनत चौका देती हे और एक बात याद रखना की महेनत सीढ़ियों की तरह होती हे और किस्मत लिफ्ट की तरह होती हे यानिकि लिफ्ट कभी भी बंध हो सकती हे लेकिन सीढिया हमेंशा हमें ऊंचाई की और ही ले जाती हे 

महेनत हे तो सब कुछ हे 

महेनत से आप कुछ भी हासिल कर सकते हे। 

महेनत पर आधारित कहानी

आयन एक बहुत ही समझदार लड़का हे लेकिन उसकी एक कमज़ोरी थी और वो ये थी की आयन पढाई के मामले में हमेंशा महेनत करने से पीछे रखता था यानिकि महेनत करने से बचता था। अयान अपना सारा दिन खेल खुद में ही व्यतीत करता था और जब उसके माता - पिता उनसे पढाई के बारे में कहते तो आयन नए नए बहाने बनाकर महेनत से पीछा चुराता था यानिकि महेनत करने में उनका कोई रस नहीं था। 

एक दिन की बात हे की एक बार आयन के हाथो से ही उसका पसंदीदा कप टूट जाता हे जिससे वो रोने लगता हे तब अयान की माँ उसे पैसे देखर कहती हे की ये पैसे से तुम बाजार में से अपने लिए एक नया कप ले लेना ये सुनकर आयन बहुत ही खुश हो जाता हे और दूसरे दिन वो बाजार में कप लेने के लिए चला जाता हे तब एक दुकान में उसे एक लाल रंग का कप नजर आता हे कप देखते ही अयान को वो कप पसंद आ जाता हे और वो कप वाकई में बड़ा ही सुन्दर और अच्छा कप था। अयान ने दुकानदार को पैसे दिए और वो कप अपने लिए खरीद लिया अब कप लेकर वो अपने घर पहुंच गया। अयान को कप इतना पसंद था की वो रात को सोते वक्त उस कप को भी वो कप अपने साथ लेकर बिस्तर पर लेट गया और देखते ही देखते उसे नींद आ गई। 

जब अयान गहरी नींद में सो रहा था तभी एक आवाज सुनाई दी अयान ,,,, अयान ,,, तब अयान ने इधर उधर देखा तो वो कप उसे बातें करने के लिए पुकार रहा था। वो कप अयान से कहता हे की में जानता हु की में तुमको बहुत पसंद हु क्योकि में सुन्दर हु लेकिन क्या तुम्हे मालूम हे की में पहले कैसा था? आयन ने कहा नहीं तब कप बोला की एक समय था जब में मामूली लाल मिट्टी का हुआ करता था लेकिन एक दिन मेरा मालिक मुझे अपने साथ ले गया और उसने मुझे ज़मीन पर पटक दिया और मेरे ऊपर पानी डालकर मुझे अपने हाथो से मुझे मिलाने लगा और कुछ देर के बाद उसने मुझे उठाकर एक घूमते हुए चक्के पे फेंक दिया जिसे चक्के के साथ - साथ में भी तेज़ी से घूमने लगा और मेरा तो सर ही चकरा गया जिसे में चिल्लाता रहा अब बस। ...अब बस लेकिन मेरे मालिक ने कहा अभी थोड़ा और ,,,, अभी थोड़ा और कुछ वक्त के बाद में बहुत अच्छे आकर में आ चूका था लेकिन फिर में मेरे मालिक ने मुझे उठाकर आग की भठ्ठी में डाल दिया जिसे में चिल्लाने लगा मुझे बहार निकालो मुझे बहार निकालो। क्योकि मैने कभी भी इतनी गर्मी सहन नहीं की थी लेकिन क्या होता मेरा मालिक फिर से वही बोला अभी थोड़ा और अभी थोड़ा और। और कुछ समय के बाद मुझे भठ्ठी से बहार निकाला गया। 

अब मुझे अपने आप को देखर बहुत ही ख़ुशी मिली और में हैरान रह गया क्योकि मेरी ताकत पहले से कई गुना ज्यादा बढ़ गई थी और मेरी मजबूती देखकर मेरा मालिक भी खुश था और बाद में मेरे मालिक ने मुझे रंग ने के लिए भेज दिया और फिर क्या होना था में इस शानदार रूप में आ गया। मुझे अपने आप पर बहुत ही गर्व हो रहा था जितना पहले कभी नहीं हुआ ये सब महेनत और कष्ट की वजह से ही हुआ हे जो जितना ज्यादा तपता हे वो उतना ही निखरता हे ये बात आज मुझे सच लग रही हे। जो में पहले था और अब हु इससे मुझे लगता हे की मेरी महेनत बेकार नहीं गई यानिकि आज उठाकर चल सकता हु और ये कह सकता ही की में भी दुनिया के अच्छे कपो में से एक कप हु। और जैसे ही कप की बात ख़त्म हुई अयान की आंख खुल गई और ये बात आयन अच्छी तरह से समझ गया था की हमारे जीवन में महेनत का कितना महत्व हे उस दिन से उस पल से अयान ने ये निश्चित किया की अब में कभी भी महेनत से पीछे हट नहीं करुगा। 

सिख :

दोस्तों कहानी बहुत ही छोटी हे लेकिन कहानी की सिख बहुत ही बड़ी हे और वो ये हे की कोई भी इंसान हो , जानवर हो पक्षी हो यानिकि हर किसी को अपने जीवन में महेनत तो करनी ही पड़ती हे जंगल का राजा सेर उसे भी भोजन के लिए अपने शिकार के पीछे भागना पड़ता हे तब जाकर वो शिकार कर पता हे वैसे ही पक्षी को भी अपने घोसले से बहार निकलना पड़ता हे और भोजन की तलाश में दूर - दूर तक जाना पड़ता हे जबकि किसी भी इंसान को खुद को बदलने के लिए , दो वक्त की रोटी के लिए , अपना नाम कमाने के लिए , अपनी स्किल बढ़ाने के लिए महेनत की आग में तपना पड़ता हे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

close button