खुद के लिए शायरी – Khud Par Shayari – Khud Ki Shayari

Khud Par Shayari, Khud Pe Shayari, Khud Ki Shayari, Khud Ke Liye Shayari, Khud Pe Yakin Shayari,

 

खुद के लिए शायरी

खुद के लिए शायरी

 

खुद से हार गया तो बात अगल हे 

इस तक़दीर के आगे झुकने वाला नहीं हु 

और मुशीबतो से कह दो अपनी स्पीड बढ़ा ले 

अगर में निकल पड़ा तो रुकने वाला नहीं हु 

 

जिनको अपने काम पर भरोसा होता हे 

वो लोग नौकरी करते हे और 

जिनको खुद पर भरोसा होता हे वो 

लोग बिजनेस करते हे 

 

दुसरो की सोच पर चलेंगे तो 

खुद को ही कही खो देंगे 

और खुद की सोच पर चलेंगे तो 

तो फूलो के सामान खिलेंगे

Khud Ke Liye Shayari

 

कोई तुम्हारा साथ दे या न दे 

तो कभी भी निराश मत होना 

क्योकि इस दुनिया में खुद से 

बड़ा कोई हमसफ़र नहीं हे 

 

नहीं बदल सकते हम खुद को 

कभी दूसरों के हिसाब से 

एक लिबास हमें भी दिया हे 

ऊपर वालेने अपने हिसाब से 

 

कभी भी किसी के लिए 

कभी खुद को न बदलो 

क्योकि लोग तुम्हे बदल कर 

वो खुद बदल जायेंगे 

Khud Pe Shayari

 

नहीं चाहिए वो जो हमारी 

किस्मत में ही नहीं हे 

भीख मांगकर जीना तो 

मेरी फितरत में ही नहीं हे 

 

खुद से जीने की जिद्द हे 

मुझे दुसरो को नहीं खुद को हराना हे 

में भीड़ नहीं हु इस दुनिया की 

मेरे अन्दर भी एक जमाना हे।

 

इंसान खुद की नज़र में 

अच्छा होना चाहिए क्योकि 

आज कल लोग भगवान से 

भी दुखी हे

खुद को खुद में कैद करना 

भी एक हुनर हे क्योकि 

बहुत हिम्मत चाहिए खुद 

को खुद में कैद करने के लिए 

 

एक हम हे की खुद को 

उनसे दूर कर पाते नहीं हे 

और एक वो हे जो हमें 

खुद के पास आते नहीं हे 

 

खुद जैसे हो वैसे ही रहा करो 

क्योकि ओरिजनल की कीमत 

कॉपी से ज्यादा ही होती हे 

 

हम अपनी तारीफ खुद ही

किया करते हे क्योकि 

हमारी बुराई करने के लिए 

तो सारा जमाना लगा पड़ा हे 

Khud Par Shayari

 

ना बदलो खुद को इतना 

किसी और के लिए 

कही वो बदल गए तो फिर 

खुद को बदलना मुश्किल हो जायेगा 

 

Khud Par Shayari In Hindi

 

आपसे मिल गए तो चहेरे खिल गए 

पाँव था ज़मीन पर ख्वाब फलक से मिल गया 

कुछ पल के लिए हम खुद से मिल गए 

जन्नत से हमें वो लम्हे मिल गए 

 

अक्शर खुद की क़ीमत गिर जाती हे 

किसी की कीमती बनाकर अपना बनाने में 

 

भरोसा पर शायरी 

 

खुद को समझना हर किसी के 

बस की बात नहीं होती क्योकि 

अक्शर लोग दुसरो की बुराई

करने में बड़े माहिर होते हे 

Khud Ki Shayari

 

मुझे हर किसी के सामने 

खुद को अच्छा साबित करने की 

कोई आवश्यकता नहीं हे क्योकि 

में उनके लिए अनमोल हु जो 

मुझे समझते हे।

Khud Par Shayari Status

जो भी इंसान अपनी गलतियों 

के लिए खुद से लड़ता हे 

उसे कोई नहीं हरा सकता 

 

कभी – कभी खुद के लिए भी

थोड़ा सोचा करो जनाब 

क्योकि हैसियत के इस दौर में 

कोई खैरियत नहीं पूछता 

Khud Pe Shayari

 

 बड़ी ही मुश्किल से उनकी

यादो को मैने भुलाया हे 

कुछ इस कदर मैने खुद को 

जीना सिखाया हे 

 

Khud Pe Shayari

 

कभी भी किसी के लिए 

खुद को न बदलो क्योकि 

जो आपसे दिल से प्यार करेगा 

वो थोड़ा एडजस्ट भी करेगा 

Khud Par Shayari

 

अक्शर वही लोग अकेले रह जाते हे 

वो खुद के लिए लड़ते हे। 

 

धीरे – धीरे सब कुछ बदल रहा हे 

लोग भी , रिश्ते भी और 

कभी – कभी हम भी

अब कोई शिकायत आपसे नहीं हे 

लेकिन अपने आप से हे क्योकि 

सारे झूठ तेरे थे लेकिन 

उन पर यकीन तो मेरा ही था 

Khud Ki Shayari

 

प्यार एक ऐसा लम्हा हे 

जिसमें हम खुद को भूल जाते हे 

किसी और के लिए  

 

थोड़ा सा वक्त निकाल कर कभी 

खुद के लिए भी जिया करो 

क्योकि आज कल कोई ये नहीं कहेगा 

की थक गए हों आराम कर लो 

 

Khud Ke Liye Shayari In Hindi

 

तुम्हारी मोहब्बत में कुछ 

इस कदर से पालग हुए हे हम 

की खुद का ही वजूद भूल गए हे 

 

खुद के लिए एक सज़ा चुन ली मैने 

तुम्हारी खुशियों के खातिर 

तुमसे दूरिया चुन ली मैने 

Khud Par Shayari In Hindi

 

प्यार करने वाले अक्शर 

हमें रुला ही देते हे 

मुझे मत छोड़ना कह कर 

खुद छोड़ जाते हे 

दर्द शायरी 

क्या लूटेगा खुशिया 

ये जमाना हमारी 

हम तो अपनी खुशिया 

दुसरो पर लुटाकर जीते हे। 

Khud Ke Liye Shayari In Hindi

 

मरने वाले तो एक दिन बिन 

बताये मर ही जाते हे 

रोज तो वो लोग मरते हे जो 

खुद से ज्यादा किसी और को चाहते हे 

 

खुद के लिए एक सज़ा 

मुकदर कर ली मैने 

तेरी खुशियों के खातिर 

तुमसे दूरिया चुन ली हमने 

 

तुम्हारी मोहब्बत के दीवाने थे 

इसलिए हाथ फैला दिए ए सनम 

वरना हम तो अपनी ज़िन्दगी के 

लिए भी कभी दुआ नहीं करते 

Khud Par Shayari In Hindi

 

प्यार का मतलब किसी को 

सिर्फ पाना ही नहीं होता 

किसी के लिए खुद को कुर्बान 

कर लेना भी प्यार ही होता हे 

 

रिश्ता निभाना हर किसी की 

बस की बात नहीं हे 

क्योकि खुद को दुःख देना पड़ता हे 

किसी दूसरे की ख़ुशी के लिए 

Khud Shayari

 

खुद पेड़ काटकर छाँव ढूंढ रहा हे 

आज इंसान अपने लिए आराम ढूंढ रहा हे 

पेड़ो को काटकर महल तो बना लिए हे

और आज अपने सांसो के लिए ऑक्सीजन ढूंढ रहा हे .

 

ज़िन्दगी पर शायरी 

 

” आपका बहुत – बहुत धन्यवाद पढ़ने के लिए ”