पिता का महत्व क्या हे? जानिए अपने पिता का महत्व

तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हे पिता के महत्व ( Papa Ka Mahatv ) के बारे में। एक पिता का हमारे जीवन में क्या महत्त्व होता हे ये हम इस पोस्ट के माध्यम से जानने का प्रयास करेंगे। Essay On Papa In Hindi

पिता का महत्व

पिता का महत्व

पुराणों में कहा गया हे की पिता राज प्रदान नहीं कर सकता लेकिन दुनिया के हर पुत्र का ये फर्ज होता हे की वो अपने पिता को राज प्रदान करने की हर एक कोशिश करे। 

दुनिया भर के सारे रिश्ते निभाकर हमने ये जाना हे की माता पिता के सिवाय कोई अपना नहीं होता जिनसे भी इस सच को जान लिए वो बहुत ही खुशनसीब हे और जिन्होंने इस सच को जानते हुए भी अपनी आंखे बंध करली हे इस दुनिया में उनसे ज्यादा बदनसीब और कोई नहीं। 

हमारे जीवन में पिता एक ऐसे इंसान हे जिनको हम जीते जी पहचान नहीं पाते। पिता की कमी हमें तब महसूस होती हे जब हमारे बिच सभी लोग हो लेकिन पिता न हो इसलिए पिता को समझने की हमें कोशिश करनी चाहिए और उनका सहारा बनना चाहिए। 

पिता की परिभाषा 

  " जो अपनी आंखे बंद करके आपसे भरोसा और प्रेम करे वो प्रेमिका होती हे और आंखे खोलकर आपसे प्रेम करे वो आपका सच्चा दोस्त होता हे जबकि जो अपनी आंखे बंद होने तक आपसे प्रेम करे वो माँ होती हे और आँखों में प्रेम न जताये हुए भी आपसे प्रेम करे वो एक पिता ही होता हे " Fathers Day Par shayari

पिता वो हे जो अपना पूरा समय अपने संतानो , पत्नी और परिवार के लिए हर रोज काम करते हे वो खुद के लिए कम लेकिन अपने संतानो , परिवार और पत्नी के लिए अपना खून पसीना एक करते हे वो पापा हे। 

पिता वो हे जिनके होने का हमें कभी अहसास नहीं होता लेकिन पिता न होने का एहसास ज़िन्दगी भर रहता हे। 

पिता वो हे जो अपने परिवार के लिए अपनी हर ख़ुशी को कुर्बान कर देते हे यानिकि पिता वो फरिस्ता हे जो हमें सिर्फ देता हे। 

दुनिया का कोई भी आदमी अपना रात - दिन एक करता हे तो उसके पीछे खुद का शरीर कम लेकिन अपने संतानो पत्नी और परिवार के भरण पोषण कही ज्यादा रहता हे वो पापा हे। 

वो पिता हे होते हे जो अपने बच्चे को अपने कंधे पर बैठकर दुनिया दिखाते हे चाहे वो छेद वाले कपडे पहने लेकिन अपने बच्चो को नए कपडे पहनाते हे वो पिता हे। 

आज के युग में बच्चे ऐसे होते हे की कभी पापा जमीन पर बैठे हुए होते हे और उनके संतान सोफ़े में बैठे हुए नजर आते हे कई बार हमें ये भी मालूम नहीं पड़ता की उसमे पिता कौन और बेटा कौन हे

पाता ही घर होता हे और पिता ही अपने परिवार का आधार होता हे पिता ही होते हे जिन पर घर की हर जिम्मेदारी होती हे। 

पिता एक नीम के पेड़ की तरह होते हे जो भले ही हमे डांट ले लेकिन उसके पीछे हमारी ही भलाई होती हे। पापा के लिए शायरी

पिता और पुत्र 

आचार्य चाणक्य के अनुसार पुत्र वही हे जो अपने पिता की आज्ञा का पालन करे यानिकि बच्चो को अपने पिता की हर सलाह का पालन करना चाहिए और सदैव उनकी बातो का अनुसरण करे। 

पिता को अपने संतानो के प्रति बहुत प्यार होता हे लेकिन पिता को माँ की तरह उसे बया करना नहीं आता। माँ अपने संतानो को दुःख में देखकर रो लेंगी मगर एक पिता अपने अंदर ही अंदर झुझते रहेंगे मगर वो कहेंगे नहीं वरना ममता और भावुकता में पिता किसी से पीछे नहीं रहते। ना पिता में जज्बात कम होते हे और ना ही आस्था बस वो अपने प्यार को अपनी कमज़ोरी नहीं बनने देते और यही उनकी ताकत होती हे। 

पूरी दुनिया में एक पिता ही वो इंसान हे जो ये चाहता हे की आप उससे भी ज्यादा कामयाब बने। माता पिता ही होते हे जो आपको बिना कोई स्वार्थ के प्यार करते हे इसलिए अपने माता पिता की जीते जी कदर करे क्योकि वो ही होते हे जिन्होंने आपको अपना सबकुछ छोड़कर आपको सबकुछ दिया हे। 

जब भी आपके पिता आप पर गुस्से हो तो आप उनके गुस्से को समझो क्योकि पिता के गुस्से के पीछे भी उनका अपनापन होता हे इसलिए अपने माता - पिता के गुस्से को कभी दिल पर न लो। 

किसी भी इंसान के विकास के लिए माँ के ममता के साथ - साथ पिता का योगदान भी इतना ही आवश्यक हे पिता से ही बच्चो का सपूर्ण विकास सम्भव हे 

हमारे जीवन में पिता का योगदान

    एक बच्चे के सपूर्ण विकास में एक पिता का योगदान माता के योगदान से कम नहीं होता यानिकि अपने बच्चो के कठिन समस्या के आगे पिता एक चट्टान की तरह खड़ा होता हे और अपने संतानो पर जरा सी भी आंच नहीं आने देते। पिता का व्यक्तित्व आपको भले ही ऊपर से कठोर लगे लेकिन वो ही कठोर पिता के अंदर से अपने संतानो के लिए हमेंशा प्यार ही होता हे। अक्शर पिता अपने संतानों पर लाड प्यार न जताये लेकिन अपने संतानो की ख़ुशी के लिए अपना दिन रात एक कर देता हे। 

संतानो के लिए एक पिता वटवृक्ष की तरह होते हे जो अपने संतानो के सुख और दुःख में हमेंशा साथ होते हे यानिकि एक पिता किसी भी बच्चे के लिए किसी भगवान से कम नहीं होते वो पिता ही होते हे जो अपने बच्चो के सपनो को पूरा करने की सोच रखते हे और वो ही ये चाहते हे की मेरा बच्चा मेरे से भी ज्यादा तरक्की करे। बच्चो की चाहे छोटी समस्या हो या बड़ी उनका समाधान पिता के पास होता हे। 

पिता के बिना हमारी जिन्दगी कटी पतंग की तरह होती हे जो कहा हमें ले जाएगी ये हमें भी मालूम नहीं होता पिता ही होते हे जो हमें सही क्या हे और गलत क्या हे इसका ज्ञान देते हे हमें सही रास्ते की पहचान करवाते हे। पिता के बिना हमारा कोई अस्तित्व ही नहीं हे 

जीवन में पिता होना ही हमारे लिए काफी हे क्योकि पिता ही हमारी पहचान होते हे लेकिन हमे पिता को जीते जी पहचान नहीं पाते। पिता का महत्व उनसे पूछो जिनके सर पर पिता का हाथ नहीं हे पिता का प्यार अनमोल होता हे माता पिता के आशीर्वाद से हम बड़ी सी बड़ी कामयाबी भी हासिल कर सकते हे। 

पिता का हमारी ज़िन्दगी में होना ही काफी हे क्योकि जिनके पास पिता होते हे उनके पास दुनिया की सबसे बड़ी ताकत होती हे। 

पिता के लिए हम क्या करे?

पिता का महत्व हमें तब समझ आता हे जब हम खुद एक पिता बने। तब हमें ये महसूस होता हे की एक पिता की जिन्दगी एक पिता ही समझ सके। पिता जिस तरह हे अपने बच्चो को बचपन में पालन पोषण , प्यार करते हे वैसे ही हमें भी जब पिता वृद्ध हो जाये तब हमें भी पिता का ख्याल रखना चाहिए क्योकि हर एक पिता की ये ख्वाइश होती हे की उनके संतान उसके पास रहे और उनकी ख्याल रखे इसलिए हमें अपने माता पिता को प्यार और विश्वास देना चाहिए उनके साथ बैठना चाहिए और सुख दुःख की बाते करनी चाहिए ताकि उनको लगे की जो हमने अपने बच्चो को संस्कार दिए थे वो आज हमें नजर आ रहे हे इस दुनिया में सभी कर्जो से बड़ा कर्ज माता पिता का होता हे जिसे हम किसी भी जन्म में चूका नहीं पाएंगे फिर भी हमें माता पिता ने बचपन में जो समय उन्होंने दिया वो हमें माता पिता के वृद्ध होने पर देना चाहिए।

अपने पिता की हर एक बात सुनो और पालन करे क्योकि वो पिता ही होते हे जिन्होंने तब भी आपकी सुनो जब आपको कुछ भी बोलना नहीं आता। कुछ लोग बड़े होकर अपने माता पिता को ये कहते हे की आपने मेरे लिए किया ही क्या हे लेकिन शायद उनको ये मालूम नहीं होता की माता पिता की पूरी ज़िन्दगी निकल जाती हे अपने बच्चो की जिंदगी बनाने में। कभी भी हमें माता पिता पर अपनी जुबान की तेज़ी मत चलाओ जिन्होंने आपको बोलना सिखाया हो। हमेंशा के लिए अपने माता पिता के साथ रहो। 

एक बार जरूर सुने 

ये भी पढ़े। 

माँ का महत्व 

समय का महत्व 

जैसे को तैसा 

आपका बहुत बहुत धन्यवाद पढ़ने के लिए। 

अगर दोस्तों आपको ये पोस्ट पसंद आये तो इसे अपने दोस्तों परिवार को सेर करे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

close button