हमारे जीवन में पुस्तकों ( किताबों ) का महत्व क्या हे

पुस्तकों का महत्व - Essay On Books In Hindi

हेल्लो दोस्तों आपका स्वागत हे तो आज हम बात करने वाले हे अपने जीवन में पुस्तकों का महत्व क्या हे? पुस्तक ज्ञान का सागर होते हे लेकिन जब हम सागर की गहराई तक जाते हे तब पता चलता हे सागर में कौन कौन सी चीजे हे वैसे जब तक हम किताबो को नहीं समझगे तब तक हमें पुस्तकों का महत्व नहीं समझ आएगा। तो आज हम आपको पुस्तक का महत्व समझाने वाले हे हमें उम्मीद हे की आपको ये पोस्ट जरूर पसंद आएगी। Essay On Book In Hindi

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी हे जिनको अपना जीवन सही तरीके से जीने के लिए ज्ञान की जरुरत होती हे हमें किसी भी वास्तु या चीज के बारे में जानने के लिए पहले गुरु या किसी इंसान की जरुरत होती हे लेकिन अब सभी बातें पुस्तक में होती हे। पुस्तके हमारा जीवन बदल देती हे फ़्रांस की क्रांति एक पुस्तक से आई यानिकि पुस्तके कभी चुप नहीं रहती वो हमको प्रेरित करती हे। पुस्तक हर व्यक्ति के व्यक्तित्व को निखरता हे। दुनिया का ऐसा कोई धर्म नहीं हे जिसका कोई पुस्तक न हो। 

प्रस्तावना :

पुस्तके एक दर्पण की तरह होती हे और जब हम उनके सामने जाते हे तब आपको सच का दर्शन करवाती हे इंसान समय समय पर अपनी भाषा , रंग बदल देता हे लेकिन पुस्तके कभी अपनी भाषा नहीं बदलते। पुस्तके दर्पण की तरह होते हे जब आप उनके सामने जाते हे तब वो आपको सब सही सही बताते हे की आपको कही दाग हे और आपको कही पर क्या आवश्यकता हे। 

जिस प्रकार परमाणु के अंदर एक चेतना होती हे और जिसे आप उसे विस्फोट करे तब आपको ये पता चलता हे की उनमे कितनी शक्ति होती हे वैसे ही पुस्तकों में भी जीवन रूपांतरण की , विचार रूपांतरण की शक्ति होती हे। अगर हमें अव्यवस्था के बिच व्यवस्था लानी हे तो हमें पुस्तकों को अपनी जिन्दगी में लाना होगा। 

जीवन में पुस्तक का महत्व 

हमारे जीवन में पुस्तक का महत्व


जो शक्ति तीर , तलवार में नहीं होती वो शक्ति पुस्तकों में होती हे क्योकि तीर तलवार से हम सामने वाले इंसान का शरीर ही जित सकते हे लेकिन मन नहीं मगर पुस्तकों से हम सामने वाले इंसान वाले इंसान का मन और ह्रदय दोनों जित सकते हे और ऐसी ही जित हमारी सच्ची जित होती हे। 

जो लोग अध्यनशील हे उनमे धैर्य हे और जिनमे धैर्य हे वो ही धनवान हे और जो धनवान हे वो ही किसी को कुछ दे सकता हे यानिकि मेरा कहने का मतलब ये हे की जितना आप अध्यन करते हे उतना ही आप में धैर्य बढ़ता हे दूसके की बात सुनने का दूसरे के विचार समझने का और उस विचार में या बातों में जो चीजे अच्छी हे उसे अपने जीवन में उतारनी हे। 

अगर हमें हमारे जीवन में अच्छे विचार लाने हे तो हमें पुस्तकों को जरूर पढ़ना होगा क्योकि सारे संसार के अच्छे विचार हमारे पास कभी उड़के नहीं आने वाले उसे लाने के लिए हमें पुस्तकों को अपना दोस्त बनाना पड़ेगा। पुस्तके पढ़ने वाले इंसान को हर मुश्किल का हल जरूर मिलता हे क्योकि उसकी मिलती झूलती स्थिति के विषय पर उसने कही न कही जरूर पढ़ा होता हे 

डॉ , धर्मवीर सिंह कहते हे जब में छोटा था तब में हिल हिल के पढ़ता था लेकिन मेरे गांव में कुछ किताबें थी हमारे एक शिक्षक ने हमें एक किताब दी पढ़ने के लिए और उस किताब में ये लिखा था की हिल हिल के पढ़ने से हमारी आंखे ख़राब होती हे उस लाइन को पढ़ने के बाद मैने कभी भी हिल हिल के नहीं पढ़ा यानिकि मेरे पापा असफल रहे , मेरी माँ असफल रही , मेरी बहन असफल रही मुझे ये समझाने में की हिल हिल के नहीं पढ़ना चाहिए लेकिन उस किताब की दो लाइन ने मुझे ये समझा दिया की हिल हिल के नहीं पढ़ना चाहिए। इसी तरह ये पुस्तके दूसरे के जीवन में भी बड़ा परिवर्तन ला सकती हे। 

नदी का जो पानी हे वो देखने पर एक जैसा हे लेकिन एक जैसा कभी भी नहीं हे वैसे ही जीवन का जो बहाव हे वो देखने में तो एक जैसा हे लेकिन वो एक जैसा नहीं होता और वो एक जैसा नहीं होता उसे हम एक जैसा नहीं होने में अपने को कैसे बहेतर करे और आगे बढे उसमे पुस्तकों का योगदान हे।    

ये भी पढ़े। .. दोस्तों का महत्व

पुस्तकों के लाभ - किताबो का महत्व

पुस्तक के लाभ

    पुस्तके मानव जीवन में बदलाव ला सकती हे एक पुस्तक ही हमें सोचने समझने को प्रेरित करती हे। पुस्तक से ही हम अच्छी अच्छी बातों को अपने जीवन में ला सकते हे और ज़िन्दगी में आगे बढ़ सकते हे। विचारो के आदान - प्रदान के लिए पुस्तके ही हमारा अस्त्र हे पुस्तके में लिखे हुए विचार ही किसी समाज की काया पलट देने के लिए काफी होते हे। 

हमारे जीवन में पुस्तकों का महत्व बहुत होता हे जिस प्रकार एक अच्छा मित्र हमारे जीवन को एक अच्छी दिशा दे सकता हे वैसे ही पुस्तके भी हमारा मित्र होती हे जो हमारे जीवन को बदलने की शक्ति रखती हे आज जो भी महापुरुष हे उन्होंने ने भी अपने जीवन में पुस्तकों को बड़ा महत्व दिया हे जो उनको अपने जीवन में विकास के लिए सहायक होती हे यानिकि पुस्तके भी सच्चे मित्र की तरह होती हे जो सुख और दुःख में हमारे साथ रहती हे। 

पुस्तके हमें सच्चे मित्र की तरह सही क्या हे? और गलत क्या हे? उसकी सही पहचान करवाते हे हमें सही राह दिखाती हे और हमारी मुश्किल परिस्थिति में हमारा सहारा बनती हे और हमारी हिम्मत बढाती हे। 

जिस प्रकार एक पेड़ का पत्ता हवा के साथ दोस्ती करके उसके साथ ऊँचे उड़ सकता हे लेकिन उसके साथ के बिना वो मिट्टी में मिल जाता हे वैसे हे हम अच्छी पुस्तके का सहारा लेके प्रेरणा लेके हम भी विकास की सिमा तक पहुँच सकते हे। 

किसी भी इंसान के व्यक्तित्व के विकास में पुस्तके महत्व भूमिका अदा करती हे। पुस्तके मनुष्य को शांति सुख प्रदान कर सकती हे। 

जिस तरह से ख़राब दोस्त के साथ दोस्ती करने से ख़राब आदते हमारे अंदर आती हे वैसे ही ख़राब पुस्तके पढ़ने से हमारे मन तन पर उसका ख़राब प्रभाव होता हे इसलिए हमेंशा अपने जीवन में उपयोगी पुस्तके ही पढ़े। 

बच्चो के लिए पुस्तक का महत्व

   अगर आप अपने बच्चो को पुस्तक पढ़ने के लिए प्रेरित करते हे तो बच्चो के लिए पुस्तक बहुत उपयोगी साबित होती हे क्योकि पुस्तके बच्चो का अकेलापन दूर करती हे। बच्चे को प्यारी कहानिया बताती हे और पुस्तके बच्चे के लिए मित्र स्वरुप होती हे उसे अपने देश से प्रेम करना सिखाती हे बड़ो के साथ कैसा व्यव्हार करना और परिवार में सबको आपस में प्रेम करना और मिलकर रहना ये सिखाती हे इस प्रकार बच्चे में व्यावहारिक ज्ञान पुस्तके के जरिये आ सकता हे। 

जिस प्रकार भोजन लेने का अर्थ केवल पेट भरना ही नहीं होता वैसे ही पुस्तकों का अध्ययन करना पढ़ना या मनोरंजन करना ही नहीं होता लेकिन पुस्तकों में से अच्छी अच्छी बातो को समझना होता हे उसे अपने जीवन में लाना होता हे तभी समाज राष्ट्र का विकास और रक्षा हो सकती हे। 

ये भी पढ़े। 

अच्छे दिन की शरुआत कैसे करे?

पिता का महत्व क्या हे जानिए 


" आपका बहुत बहुत धन्यवाद इस पोस्ट को पढ़ने के लिए "

 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

close button