खंजन पक्षी के बारे में रौचक जानकारी

 ये दुनिया प्राणियों और पक्षियों की विविधता से भरी पड़ी हुई हे और हम एक ऐसे ही पक्षी के बारे में बात करने वाले जो अपनी दुम (पूंछ ) को लगातार ऊपर निचे हिलाता ही रहता हे जी हा दोस्तों में बात कर रहा हु खंजन पक्षी के बारे में जिनका अंग्रेजी नाम Wagtail Bird हे। तो दोस्तों चलो इस  पक्षी के बारे में अधिक जानकारी को पढ़ लेते हे। 

khanjan pakshi ki jankari



खंजन पक्षी की सामान्य जानकारी :


खंजन पक्षी भारत के प्रसिद्र पक्षियों में से एक पक्षी हे 

खंजन पक्षी का वैज्ञानिक नाम : Motacilla

खंजन पक्षी के अन्य नाम : खिंडरिच , ख़ंजरीट , खंडलीच 

खंजन पक्षी की लम्बाई : सात से नव इंच के आसपास होती हे। 

खंजन पक्षी का वजन : 20 से 25 ग्राम के आसपास होता हे। 

खंजन पक्षी की आवाज़ कैसी होती हे ? : खंजन पक्षी उड़ते वक्त चिट्ट - चिट्ट की आवाज उत्पन करता हे।



खंजन पक्षी के रोचक तथ्यों 


1 . खंजन पक्षी मोटासिलिटी कुल के मोटासिला कुल का पक्षी हे। 

2 .  खंजन एक मध्यम कद का बहुत ही चंचल पक्षी हे। 

3 .  इस पक्षी का पूरा शरीर लम्बा और पतला होता हे। 

4 . ये पक्षी अक्शर आपको पानी के किनारे यानिकि झीलों , तालाबों , नदियाँ के किनारे घूमता रहता हे। 

5 . प्राचीन कवियों ने नेत्रों की उपमा इस पक्षी यानिकि खंजन पक्षी से दिया हे क्योकि इस पक्षी के नेत्र हमेंशा चंचल रहती हे। 

6 . इस पक्षी की सबसे बड़ी विशेषता ये हे की ये पक्षी अन्य पक्षी की तरह कूदकर नहीं बल्कि दौड़कर चलता हे। 

7 . मादा खंजन पक्षी करीब चार से सात अंडे देती हे जो चौड़े एवं अंडाकार होते हे और नर मादा साथ मिलकर अपने बच्चो का पालन पोषण करते हे। 

8 . इस पक्षी का जीवनकाल करीब पांच से आठ साल तक होता हे। 

खंजन पक्षी का वीडियो

खंजन पक्षी की रंग और स्वाभाव के आधार पर चार प्रजाति हे। 


सफ़ेद खंजन पक्षी : 

ये पक्षी करीब आठ इंच लम्बा होता हे जबकि वजन करीब 20 ग्राम के आसपास होता हे। अगर हम इस पक्षी के रंग के बारे में बात करे तो इस पक्षी का रंग चितकबरा होता हे ये पक्षी अक्शर झुण्ड में कीड़े - मकोड़े का शिकार करते हे। ये पक्षी खतरा महसूस होते हे उस स्थान से उड़ जाते हे और वापस भी आ जाते हे। 


शबल खंजन पक्षी : 

इस पक्षी को ममोला या कालकंठ भी कहा जाता हे ये पक्षी की तुलना में आकर में सहेज बड़ा और ज्यादा चितकबरा होता हे। नर और मादा एकसमान ही होते हे। ये भारतवर्ष का बारहमासी पक्षी हे ये पक्षी अकेले भी रहता और झुण्ड में भी वो पाए जाते हे। 



भूरा खंजन पक्षी : 

ज्यादातर ये पक्षी  के किनारे अकेला ही पाया जाता हे गर्मियों के दौरान ये पक्षी स्वदेश लौट जाता हे और करीब मई से जून के बिच अंडे देते हे। 

पीला खंजन पक्षी : 

पिले खंजन पक्षी को कई लोग पिनाकी के नाम से भी पहचानते हे। मध्यम आकर का ये पक्षी करीब सात इंच लम्बा होता हे। इस पक्षी के शरीर का निचला हिस्सा पिले रंग का होता हे। पिले रंग के खंजन पक्षी को खंजन पक्षी में सबसे सुन्दर पक्षी कहा जाता हे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें